देश की खबरें | महाराष्ट्र कांग्रेस ने पेगासस जासूसी आरोपों की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में जांच की मांग की

मुंबई, 22 जुलाई कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई ने बृहस्पतिवार को इजराइली स्पाईवेयर पेगासस द्वारा नेताओं और पत्रकारों की कथित जासूसी की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में न्यायिक जांच कराने की मांग की।

कांग्रेस की प्रदेश इकाई के प्रमुख नाना पटोले के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और उन्हें इस मांग से संबंधित एक ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में कहा गया है कि जासूसी की प्रवृत्ति आधुनिक तकनीक का दुरुपयोग और लोकतंत्र के लिए खतरनाक है और केंद्र सरकार का स्पष्टीकरण संतोषजनक नहीं है।

ज्ञापन में कहा गया है, ‘‘यह जानना आवश्यक है कि भारत में किसने पेगासस की सेवाएं लीं और विपक्षी नेताओं की जासूसी करने का आदेश दिया।’’

पार्टी ने बताया कि पेगासस ने कहा है कि संप्रभु सरकारें राष्ट्रीय सुरक्षा के उपयोग और आतंकवाद के खिलाफ उसके सॉफ्टवेयर की सेवाएं लेती हैं।

पार्टी ने ज्ञापन में सवाल किया, ‘‘भारत में लोकतंत्र के सभी चार स्तंभों पर जासूसी करने की अनुमति किसने दी?’’

गौरतलब है कि एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया संगठन ने खुलासा किया है कि इजराइली जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिये भारत के दो मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हैक किए गए होंगे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)