जरुरी जानकारी | खुर्जा बिजली परियोजना: कोयला रखरखाव संयंत्र का निर्माण कार्य शुरू

नयी दिल्ली, 13 अक्टूबर सार्वजनिक क्षेत्र की बिजली कंपनी टीएचडीसी इंडिया लि. की खुर्जा तापीय विद्युत परियोजना में कोयला रखरखाव संयंत्र का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। कंपनी ने बुधवार को एक बयान में यह जानकारी दी।

कंपनी उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर जिले के खुर्जा में 1,320 मेगावॉट क्षमता (660-660 मेगावाट की दो इकाई) की तापीय विद्युत परियोजना लगा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मार्च, 2019 में इस परियोजना का शिलान्यास किया था। परियोजना की पहली इकाई फरवरी, 2024 में चालू करने का लक्ष्य है।

टीएचडीसी इंडिया लि. ने एक बयान में कहा, ‘‘खुर्जा उच्च तापीय विद्युत परियोजना स्थल पर भूमिपूजन कर कोयला रखरखाव संयंत्र का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया। इस मौके पर टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक आर के विश्नोई एवं एनटीपीसी लिमिटेड के निदेशक (परियोजना) उज्ज्वल कांत भट्टाचार्य मौजूद थे।

कंपनी के अनुसार इस परियोजना का निर्माण कार्य प्रगति पर है। परियोजना से जुड़े सभी कार्यों के लिये ठेके दिये जा चुके हैं। कोयला मंत्रालय ने इस परियोजना में ईंधन की आपूर्ति के लिए कंपनी को मध्य प्रदेश के सिंगरौली में स्थित अमेलिया कोयला खदान आवंटित किया है।

बयान में कहा गया है कि अमेलिया कोयला खदान से कोयला देवराग्राम रेलवे स्टेशन से 840 किमी की दूरी तय कर खुर्जा के डांवर रेलवे स्टेशन लाया जाएगा। डांवर रेलवे स्टेशन से परियोजना स्थल तक कोयला पहुंचाने के लिए टीएचडीसी 16 किमी लंबी रेलवे साइडिंग का निर्माण कर रही है। कुल 11,089 करोड़ रुपये की लागत वाली इस परियोजना के पूरा होने से देश के उत्तरी क्षेत्र की विद्युत आवश्यकताएं पूरी हो सकेंगी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)