देश की खबरें | सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देकर लोगों को ठगने का आरोपी गिरफ्तार

नयी दिल्ली, चार दिसंबर दिल्ली में सरकारी नौकरी दिलाने में मदद करने के नाम पर करीब 50 लोगों को ठगने आरोप में 31 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि आरोपी की पहचान दिल्ली के बसई दारा पुर इलाके के रहने वाले अनिल सिंह के रूप में हुई है।

पुलिस को मिली शिकायत के मुताबिक एक व्यक्ति ने एक समाचार पत्र में अपनी बेटी के लिए वैवाहिक विज्ञापन निकलवाया था। पुलिस ने कहा कि विज्ञापन देखने के बाद आरोपी ने शिकायतकर्ता के सामने दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) में एक वरिष्ठ सहायक निदेशक होने का नाटक किया और उसके परिवार के साथ दोस्ती कर ली।

पुलिस ने कहा कि आरोपी ने शिकायतकर्ता से कहा कि उसका बेटा गृह मंत्रालय में काम करता है।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बाद में उसने शिकायतकर्ता से कहा कि डीडीए में कुछ आंतरिक रिक्तियां निकली हैं और चूंकि वह एक राजपत्रित अधिकारी है, तो वह उसके (शिकायतकर्ता के) बेटे की नियुक्ति करा सकता है।

अधिकारी ने कहा कि आरोपी ने शिकायतकर्ता से कुछ दस्तावेज मांगे और वेतन खाता खुलवाने के लिए 30 हजार रुपये जमा कराने को कहा। अधिकारी ने कहा कि शिकायतकर्ता ने यूपीआई के माध्यम से 30,000 रुपये का भुगतान किया, जिसके बाद आरोपी ने अपना फोन बंद कर दिया।

अधिकारी के अनुसार कॉल डिटेल के आधार पर आरोपी की पहचान की गई। जब पुलिस मंगोलपुरी में उसके घर पहुंची, तो पता चला कि उसके परिवार ने उसे 2013 में उसे छोड़ दिया था क्योंकि वह नियमित रूप से लोगों को धोखा देता था।

अधिकारी ने कहा कि कई अन्य शिकायतों की जांच करते हुए पुलिस ने पाया कि राजेंद्र कुमार नामक व्यक्ति के साथ भी धोखाधड़ी की गई।

पुलिस को जांच के दौरान आरोपी के मोती नगर में होने का पता चला। पाया गया कि वह नियमित रूप से एक चाय की दुकान पर जाता है।

पुलिस उपायुक्त (उत्तर पश्चिम) उषा रंगनानी ने कहा कि पुलिस ने शुक्रवार शाम उसे गिरफ्तार कर लिया।

डीसीपी ने कहा कि आरोपी ने धोखाधड़ी के मामलों में अपनी संलिप्तता का खुलासा किया।उसने समाचार पत्रों में आए अलग-अलग विज्ञापनों से लोगों के फोन नंबर जुटाए और फिर उन्हें शिकार बनाया।

पुलिस ने कहा कि 2013 में उसने 46 महिलाओं को सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देकर एक-एक हजार रुपये ठगे। पुलिस ने कहा कि उसने अपना घर छोड़ दिया क्योंकि उसका परिवार उसकी धोखाधड़ी की आदत के खिलाफ था।

उन्होंने बताया कि आरोपी के पास से एक मोबाइल फोन और चार सिम कार्ड बरामद किए गए, जिसका इस्तेमाल कर आरोपी लोगों को शिकार बनाता था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)