देश की खबरें | इंडिगो के मैनेजर की हत्या: मुख्यमंत्री ने अपराधियों को अविलम्ब गिरफ्तार करने के निर्देश दिये
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

पटना, 13 जनवरी इंडिगो एयरलाइन्स के पटना हवाई अड्डे पर मैनेजर रूपेश कुमार सिंह (40) की यहां उनके घर के नजदीक मंगलवार की देर शाम हुई हत्या के बाद पैदा तनाव और राजनीतिक बयानबाजी के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को पुलिस महानिदेशक से बात कर अपराधियों की अविलम्ब गिरफ्तारी सुनिश्चित करने और दोषियों को जल्द से जल्द कठोर सजा दिलाने के निर्देश दिये हैं।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को पुलिस महानिदेशक से बात कर रूपेश कुमार सिंह की हत्या से संबंधित अद्यतन स्थिति की जानकारी ली। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि इस हत्याकाण्ड की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित कर त्वरित कार्रवाई की जा रही है।

अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) जितेंद्र कुमार ने बुधवार को बताया कि मामले की जांच के लिए पुलिस अधीक्षक (नगर) के नेतृत्व में विशेष टीम ने जांच शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि अभी तक की जांच में यह बात सामने आयी है कि इस वारदात को पेशेवर अपराधियों ने अंजाम दिया है। अपराधियों की पहचान और गिरफ्तारी के लिए विशेष कार्य बल को भी लगाया गया है ।

जितेंद्र कुमार ने बताया कि इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है । उन्होंने कहा कि मृतक के फोन की जांच में एफएसएल टीम और अपराध अनुसंधान विभाग की टीम जिला पुलिस को सहयोग कर रही है ।

छपरा निवासी रूपेश कल देर शाम अपनी कार से पुनाईचक मोहल्ले स्थित घर के गेट के नजदीक ही पहुंचे थे जब अपराधियों ने उन पर अंधाधुन्ध गोलीबारी की। सीसीटीवी फुटेज में मोटरसाइकिल सवार दो लोगों को वारदात स्थल के पास से जाते हुए देखा गया है ।

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने इस तरह की वारदात प्रदेश में बार-बार होने का आरोप लगाते हुए बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमाला किया। उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के लोग (उन्हें) जंगलराज का युवराज बोलते थे । आज जंगलराज का महाराजा कौन है । कहां हैं प्रधानमंत्री।’’

राजद नेता ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री चुनाव के समय कहते थे कि आपका बेटा दिल्ली में बैठा है। कुछ भी गलत नहीं होगा। तो क्या प्रधानमंत्री जी बता पाएंगे कि क्या रूपेश सिंह के परिवार के लोग छठ मना पाएंगे। हमको जंगलराज का युवराज कहते थे। अब बताएं प्रधानमंत्री जी महाजंगलराज का महाराजा कौन है। कहाँ गायब हैं। अब आएं सामने। आकर पूछताछ और कार्रवाई करनी चाहिए । किस बात की डबल इंजन सरकार है यहां।’’

उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ‘सलेक्टेड-नॉमिनेटेड’ मुख्यमंत्री, जो की थके हुए हैं, सरकार नहीं चला पा रहे हैं ।

उन्होंने बिहार में गुंडाराज होने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा को मुख्यमंत्री से केवल सवाल पूछकर बचने का प्रयास करने के बजाए बताना चाहिए कि उसके दो उप-मुख्यमंत्री सहित अन्य मंत्री किस काम के लिए हैं ।

तेजस्वी के आरोप पर उप-मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि ‘‘हमें उनके प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं । हमें अपने दायित्व के बारे में पूरा एहसास है।’’

भाजपा के राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर ने इस घटना को दुखद और गंभीर बताते हुए कहा कि यह घटना प्रदेश की नवनिर्वाचित राजग सरकार के लिए चुनौती है और अगर तीन से पांच दिनों के भीतर पुलिस किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचती है तो इस मामले को अविलंब सीबीआई को सौंपा जाना चाहिए ।

कांग्रेस के विधान परिषद सदस्य प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि यह घटना अपराधियों के बढ़ते मनोबल को दिखाती है। उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री की पुलिस के साथ बैठकों का कोई असर नहीं पड़ा है और कल की घटना राज्य सरकार के मुंह पर तमाचा है।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य किशोर कुमार झा ने कहा कि इस घटना ने राज्य पुलिस महकमे की कलई खोल दी है। उन्होंने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री पुलिस अधिकारियों के साथ लगातार बैठकें करते रहे हैं । इतनी बड़ी घटना की साजिश रची गई और पुलिस के खुफिया तंत्र को पता तक नहीं चला।’’

जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और पूर्व सांसद पप्पू यादव ने भी इस हत्याकांड पर नीतीश कुमार की सरकार को घेरते हुए कहा कि बिहार पुलिस को अब ‘‘फ्री हैंड’’ देने का समय आ गया है और बिहार में अपराधियों का ‘‘एनकाउंटर’’ करने की जरूरत है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)