देश की खबरें | मप्र: लिफ्ट उपकरणों के निरीक्षण के लिए समिति गठित

भोपाल, 23 फरवरी मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत करीब 16 लोगों को ले जा रही लिफ्ट के इंदौर में गिर जाने के दो दिन बाद मंगलवार को राज्य सरकार ने प्रदेश में स्थापित सभी लिफ्ट उपकरणों के संचालन, संधारण एवं निरीक्षण की मानक प्रक्रिया और उत्तरदायित्व निर्धारण की स्थायी प्रक्रिया प्रस्तावित करने के लिये समिति का गठन किया है।

मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है।

अधिकारी ने बताया कि मध्य प्रदेश लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव नीरज मण्डलोई द्वारा मंगलवार को जारी आदेश के अनुसार छह सदस्यीय समिति के अध्यक्ष लोक निर्माण विभाग की परियोजना क्रियान्वयन इकाई के परियोजना संचालक अखिलेश अग्रवाल होंगे।

उन्होंने कहा कि मण्डलोई के अलावा, एस एस मुजाल्दे, मुख्य अभियंता (विद्युत सुरक्षा) एवं मुख्य विद्युत निरीक्षक, जी पी कटारे, प्रमुख अभियंता, नगरीय विकास एवं आवास विभाग, अमित गजभिए, संयुक्त संचालक, नगर तथा ग्राम निवेश संचालनालय, मध्यप्रदेश केडाई एसोसिएशन के अध्यक्ष और इंडियन आर्किटेक्ट इंस्टिट्यूट के प्रतिनिधि को समिति का सदस्य बनाया गया है।

अधिकारी ने बताया कि यह समिति अपना प्रतिवेदन 15 दिवस में लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव को सौंपेगी।

उन्होंने कहा कि प्रमुख अभियंता, लोक निर्माण विभाग अपने अंतर्गत विद्युत एवं यांत्रिकी के विशेषज्ञों/अभियंताओं की सेवाएं आवश्यकतानुसार समिति को उपलब्ध कराएंगे।

मालूम हो कि इंदौर में नवनिर्मित एक निजी अस्पताल की लिफ्ट में क्षमता से ज्यादा लोगों के सवार होने के कारण रविवार शाम यह लिफ्ट कथित तौर पर 10 फुट नीचे आ गिरी। हादसे के वक्त लिफ्ट में कमलनाथ, प्रदेश के पूर्व मंत्रियों-सज्जन सिंह वर्मा और जीतू पटवारी समेत 13 से 14 लोग सवार थे और ये सभी लोग सुरक्षित रहे। इस दुर्घटना में कमलनाथ को मामूली चोट पहुंची थी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)