देश की खबरें | पश्चिम बंगाल में मनाई गई महानवमी, बारिश के पूर्वानुमान के बीच पंडालों में उमड़ें श्रद्धालु

कोलकाता, 14 अक्टूबर महानवमी पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु समूचे पश्चिम बंगाल में पूजा पंडालों में उमड़ पड़े, जबकि मौसम वैज्ञानिकों ने बारिश होने का पूर्वानुमान किया था।

नवोन्मेषी एवं जगमग करते भव्य पूजा पंडालों को देखने के लिए भीड़ के सड़कों पर उतरने से कोविड-19 नियमों का कहीं से भी अनुपालन होता नहीं दिखा क्योंकि पांच दिवसीय उत्सव बृहस्पतिवार को अपने महत्वपूर्ण चरण में पहुंच गया। प्रतिमाओं का विसर्जन शुक्रवार को विजय दशमी पर होगा।

शाम में कोलकाता की सड़कों पर श्रद्धालुओं का तांता लग गया। हजारों की संख्या में लोग उल्लास के साथ घरों से बाहर निकले, जबकि भारत मौसम विज्ञान विभाग ने महानवमी और विजय दशमी पर दक्षिण बंगाल में बारिश होने का पूर्वानुमान किया है।

उत्तर कोलकाता के बेलेघाट संधानी और जगत मुखर्जी पार्क से लेकर शहर के दक्षिणी हिस्से में हिंदुस्तान पार्क और बोसपुकुर तालबगान तक शाम में भीड़ बढ़ती रही। लोग 10 मीटर की दूरी से प्रतिमाओं के दर्शन के लिए जद्दोजहद करते दिखे।

फोरम फॉर दुर्गोत्सव प्रमुख काजल सरकार ने कहा, ‘‘पिछले साल, पूजा पंडालों में नहीं के बराबर भीड़ हुई थी। लेकिन इस साल टीकाकरण करा चुके ज्यादातर लोग सड़कों पर उमड़ पड़े। हम लोगों से सुरक्षा नियमों का पालन करने का अनुरोध कर रहे हैं।

श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब का बुर्ज खलीफा पंडाल आज सुनसान नजर आया, दरअसल बुधवार रात पुलिस ने इसे लोगों की पहुंच से दूर कर दिया क्योंकि वहां अत्यधिक भीड़ जुटने से कोविड-19 के फैलने की आशंका पैदा हो गई थी।

श्रीभूमि के आयोजकों द्वारा लेजर शो को स्थगित करने के एक दिन बाद विधाननगर पुलिस आयुक्तालय ने यह कदम उठाया। दरअसल, यह लेजर शो पंडाल के सामने काफी भीड़ एकत्र कर रहा था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)