देश की खबरें | अलीगढ़ शराब कांड की आरोपी पूर्व ब्लाक प्रमुख की जेल में ‘मौत’

अलीगढ़ (उप्र), चार दिसंबर अलीगढ़ जिले के जहरीली शराब कांड की घटना की आरोपी पूर्व ब्लाक प्रमुख रेनु शर्मा की यहां जेल में कथित तौर पर मौत हो गई। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि घटना की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

इस बीच मृतक के परिवार के सदस्यों ने जेल अधिकारियों की जवाबदेही तय करने के लिए विरोध प्रदर्शन किया।

रेनु शर्मा (41) को शुक्रवार रात तबीयत बिगड़ने पर जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया, जहां पहुंचने पर चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने कहा कि रेनु के पति ऋषि शर्मा जो शराब कांड के मुख्य आरोपियों में से एक हैं और उनके परिवार के पांच अन्य सदस्य भी अलीगढ़ जेल में बंद हैं।

रेनु के परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया है कि रेनु को इस सप्ताह की शुरुआत में स्वास्थ्य के आधार पर जमानत दी गई थी लेकिन जेल अधिकारियों ने जानबूझकर उसकी रिहाई की कार्यवाही में कथित तौर पर देरी की।

अलीगढ़ के लोधा क्षेत्र में कथित जहरीली शराब पीने के बाद हुई मौतों के बाद 25 मई को रेनु को गिरफ्तार किया गया था और गिरफ्तारी के समय वह कई बीमारियों से पीड़ित थी। रेनु को कई बार अस्पताल में भर्ती कराया गया था और बृहस्पतिवार को ही उसे नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी।

रेनु की मौत की खबर फैलते ही उनके समर्थकों की भारी भीड़ शवगृह में एकत्र हो गई और इस पूरे प्रकरण में जवाबदेही के लिए जेल अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी की। शवगृह परिसर में धरने पर बैठे परिवार के सदस्यों ने कहा कि वे उसका अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, जब तक कि जेल में बंद परिवार के अन्य सदस्य अंतिम संस्कार के लिए पैरोल पर रिहा नहीं हो जाते। कई विपक्षी नेताओं ने उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

कांग्रेस के जिलाध्यक्ष संतोष सिंह ने मीडियाकर्मियों से कहा कि जब तक जेल के शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती और सबूतों से छेड़छाड़ के लिए उन्हें तुरंत निलंबित नहीं किया जाता है, तब तक कोई भी जांच निरर्थक होगी।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने 'पीटीआई-' को बताया कि मामले की न्यायिक जांच का आदेश दिया गया है। उन्होंने बताया कि एहतियात के तौर पर जेल और मुर्दाघर के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अधिकारियों ने मई में हुई अलीगढ़ की शराब त्रासदी में पहले मरने वालों की संख्या 40 बताई थी, लेकिन बाद में प्रयोगशाल रिपोर्ट में कई और मौतों की पुष्टि हुई थी। हालांकि सूत्रों ने दावा किया था कि इस त्रासदी में एक हफ्ते में 110 से अधिक लोग मारे गए थे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)