विदेश की खबरें | महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर वार्ता में अड़ंगा नहीं लगाए चीन: ब्लिंकन
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जब अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के चलते बीजिंग नाराज है तथा वाशिंगटन के साथ उसके संबंधों में और तल्खी आ गई है।

ब्लिंकन मनीला में फिलीपीन के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर और अन्य अधिकारियों के साथ मुलाकात करने के बाद अपने फिलीपीनी समकक्ष के साथ एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे।

गत 30 जून को मार्कोस जूनियर के पद संभालने के बाद ब्लिंकन फिलीपीन की यात्रा करने वाले शीर्ष रैंक के पहले अमेरिकी अधिकारी हैं।

पेलोसी की यात्रा के बाद चीन ने बृहस्पतिवार को ताइवान के तटों के आसपास सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया और शुक्रवार को सैन्य मामलों तथा जलवायु सहयोग सहित महत्वपूर्ण मुद्दों पर अमेरिका के साथ संपर्क काट दिया।

ब्लिंकन ने कहा, "हमें अपने दोनों देशों के बीच मतभेदों के कारण वैश्विक चिंता के मामलों पर सहयोग में अड़ंगा नहीं लगाना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "अन्य पक्ष हमसे यह उम्मीद कर रहे हैं कि हम उन मुद्दों पर काम करना जारी रखेंगे जो उनके लोगों के साथ-साथ हमारे अपने लोगों के जीवन और आजीविका के लिए महत्वपूर्ण हैं।"

ब्लिंकन ने जलवायु परिवर्तन पर सहयोग को एक प्रमुख क्षेत्र के रूप में उद्धृत किया जिस पर चीन ने संपर्क बंद कर दिया है।

उन्होंने कहा कि चीन का कदम "अमेरिका के खिलाफ नहीं, बल्कि दुनिया के खिलाफ है।"

ब्लिंकन ने कहा, "दुनिया का सबसे बड़ा कार्बन उत्सर्जक अब जलवायु संकट का मुकाबला करने से इनकार कर रहा है।"

उन्होंने कहा कि ताइवान के आसपास पानी में चीन की बैलिस्टिक मिसाइलों का गिरना एक खतरनाक कार्रवाई थी।

ब्लिंकन के साथ अपनी संक्षिप्त बैठक में, मार्कोस जूनियर ने उल्लेख किया कि वह इस सप्ताह पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद हो रहे घटनाक्रम से हैरान हैं।

मार्कोस जूनियर ने मनीला और वाशिंगटन के बीच महत्वपूर्ण संबंधों की प्रशंसा की, जो आपस संधि सहयोगी हैं।

ब्लिंकन ने फिलीपीन के साथ 1951 की पारस्परिक रक्षा संधि और "साझा चुनौतियों पर साथ काम करने" की वाशिंगटन की प्रतिबद्धता को दोहराया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)