जरुरी जानकारी | एएमपी एनर्जी ने पांडिचेरी विश्वविद्यालय में सौर बिजली परियोजना चालू की

नयी दिल्ली, 15 सितंबर एएमपी एनर्जी इंडिया ने बुधवार को कहा कि कंपनी ने पांडिचेरी विóश्वविद्यालय में 2.4 मेगावॉट क्षमता का सौर बिजली संयंत्र चालू किया है। इसका उद्घाटन उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने किया।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि किसी केंद्रीय विóश्वविद्यालय में यह बड़ी सौर परियोजनाओं में से एक है। यह परियोजना विश्वविद्यालय परिसर में 15 से अधिक इमारतों, दो कार पार्किंग स्थलों और दो भूखंडों पर लगायी गयी है।

इस सौर संयंत्र से उत्पादित बिजली से विश्वविद्यालय की करीब 40 प्रतिशत ऊर्जा जरूरत पूरी होंगी।

बयान के अनुसार उपराष्ट्रपति ने 13 सितंबर को पुडुचेरी की उपराज्यपाल डॉ तमिलिसाई सुंदरराजन, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री एन रंगासामी और विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो गुरमीत सिंह की उपस्थिति में संयंत्र का उद्घाटन किया।

बयान में कहा गया है कि सौर ऊर्जा को अपनाने से पांडिचेरी विश्वविद्यालय की ऊर्जा लागत कम होगी और हर साल लगभग 2,900 टन कार्बन (सीओ2) उत्सर्जन में कमी आएगी।

परियोजना का विकास सोलर एनर्जी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (सेकी) की छतों पर लगायी जाने वाली 97.5 मेगावॉट योजना के तहत किया गया है।

पांडिचेरी विश्वविद्यालय और एएमपी एनर्जी इंडिया ने इस योजना के तहत 25 वर्ष के लिए सौर ऊर्जा की खरीद को लेकर बिजली खरीद समझौते (पीपीए) पर हस्ताक्षर किए हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)