देश की खबरें | अकबरुद्दीन ओवैसी का औरंगजेब की कब्र का दौरा कहीं महाराष्ट्र में नए विवाद की कोशिश तो नहीं : पवार

नांदेड़/मुंबइ्र, 14 मई एआईएमआईएम नेता अकबरुद्दीन ओवैसी के मुगल बादशाह औरंगजेब की कब्र पर जाने को लेकर गत कई दिनों से विवाद चल रहा है। इस मामले पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने शनिवार को अश्चर्य व्यक्त करते हुए आशंका जताई कि कहीं इसका उद्देश्य शांत महाराष्ट्र में नया विवाद खड़ा करने की कोशिश तो नहीं है।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिममीन (एआईएमआईएम) नेता ओवैसी बृहस्पतिवार को औरंगजेब की कब्र पर गए थे। इसको लेकर राज्य में विवाद पैदा हो गया था और शिवसेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने कड़े शब्दों में इसकी निंदा की थी।

नांदेड़ में पत्रकारों ने जब इस घटना के बारे में पूछा तो पवार ने कहा, ‘‘ये लोग महाराष्ट्र और भारत का इतिहास जानते हैं। औरंगजेब ने अपने काल में क्या किया यह भी जानते हैं। यह सही नहीं है कि कोई महाराष्ट्र के बाहर का राज्य में आए और नया मुद्दा खड़ा करे। यह शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे राज्य में नया विवाद खड़ा करने के लिए किया जा रहा है।’’

आगामी राज्यसभा चुनाव के सवाल पर राकांपा प्रमुख ने कहा कि उनकी पार्टी और सहयोगी शिवसेना के पास सांसद चुनने के लिए जरूरी संख्या से अधिक मत हैं। उन्होंने कहा कि इस अतिरिक्त ताकत का इस्तेमाल तीसरी सहयोगी कांग्रेस की मदद में किया जाएगा, अगर वह संख्या में कमी का सामना करती है।

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में छह राज्यसभा सीटों के लिए 10 जून को मतदान होगा।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे (राकांपा) पास उम्मीदवार के निर्वाचित होने के लिए जरूरी मत से 10 अधिक मत हैं। शिवसेना के पास भी अतिरिक्त मत है। अत: उसको भी कोई समस्या नहीं होगी। हमारी सहयोगी कांग्रेस के पास भी पर्याप्त संख्याबल है। अगर मतों की कमी (कांग्रेस को) होती है तो हमारे लोग उनकी मदद करेंगे।’’

पवार ने कहा कि महा विकास अघाडी (एमवीए)के घटक अगले10-15 दिन में गठबबंधन के बारे में विचार सकते हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव बाद गठबंधन पर विचार किया जा सकता है।

पूर्व केंद्रीयमंत्री ने कहा कि शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की एमवीए सरकार ‘‘सही तरीके से काम कर रही है।’’ उन्होंने कहा कि वह सरकार के प्रदर्शन से संतुष्ट हैं।

जब पूछा गया कि क्या सरकार पांच साल का अपना कार्यकाल पूरा करेगी तो पवार ने कहा, ‘‘ मौजूदा पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद अगले पांच साल के लिए जनादेश हासिल करने में (गठबंधन को) कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)