चेक: प्राग यूनिवर्सिटी हत्याकांड में 14 की मौत, एक दिन का राष्ट्रीय शोक
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: Image File)

चेक रिपब्लिक की सरकार ने प्राग यूनिवर्सिटी में हुई गोलीबारी के बाद 23 दिसंबर को पूरे देश में एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया है. इस दिन लोगों से दोपहर के वक्त एक मिनट का मौन रखने की अपील की गई है.21 दिसंबर को हुई इस भीषण वारदात में 24 साल के एक चेक छात्र ने गोली मारकर 14 लोगों की जान ली और 25 लोगों को जख्मी कर दिया.

खबरों के मुताबिक सभी 14 मृतक इमारत के भीतर मारे गए. उनमें से कुछ हत्या करने वाले के साथ पढ़ते थे. हत्या करने वाले का मकसद क्या था, इसकी जानकारी अब तक नहीं मिल पाई है.

चेक रिपब्लिक के राष्ट्रपति पेत्र पवेल ने लोगों से एकजुटता बनाए रखने की अपील की है. प्रधानमंत्री पेत्र फिआला ने नागरिकों के साथ साझा किए गए अपने संदेश में संवेदनशीलता बरतने और अपुष्ट जानकारी ना फैलाने की अपील की है.

अपने संदेश में उन्होंने कहा, "कल की क्रूर घटना ने हमारे पूरे समाज को प्रभावित किया है. हम एक दर्दनाक और दुखी वक्त से गुजर रहे हैं. हमें साथ मिलकर इस स्थिति से निपटना होगा. इस मुश्किल समय में एक-दूसरे का साथ दीजिए."

संदिग्ध ने शायद पहले पिता को मारा

गोलीबारी की यह वारदात 21 दिसंबर को दोपहर बाद चार्ल्स यूनिवर्सिटी के फैकल्टी ऑफ आर्ट्स के दर्शनशास्त्र विभाग में हुई. हत्या करने वाला छात्र यहीं पढ़ता था.

वह प्राग के नजदीक होस्टाउन शहर का रहने वाला है. पुलिस का मानना है कि 21 दिसंबर को ही पहले उसने होस्टाउन में अपने पिता को मारा. फिर यूनिवर्सिटी पहुंचकर उसने हत्याकांड को अंजाम दिया.

हत्यारे के घर की तलाशी के बाद पुलिस ने यह भी बताया कि इस वारदात से पहले शायद 15 दिसंबर को भी उसने प्राग में एक शख्स और उसकी दो महीने की बेटी को मार डाला था.

पुलिस का मानना है कि बच्ची प्रैम में थी, जहां उसे साथ लेकर उसके पिता टहलने आए थे. यह घटना प्राग के दक्षिणी छोर पर एक जंगल की बताई जा रही है.

संदिग्ध को किसी और आशंका से खोज रही थी पुलिस

एक हैरान करने वाला पहलू यह है कि जिस समय यह वारदात हुई, उस समय पुलिस उसे तलाश रही थी. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, पुलिस के पास खबर थी कि वह खुद को मारना चाहता है.

संदिग्ध प्राग के लिए रवाना होते वक्त अपने गांव में कहकर आया था कि वह अपनी जान लेना चाहता था. पुलिस यूनिवर्सिटी की किसी और इमारत में उसे खोज रही थी, जहां उसके लेक्चर के लिए आने की उम्मीद थी.

पुलिस के मुताबिक, हत्या करने वाला छात्र पढ़ा में बहुत अच्छा था. उसका पहले कोई आपराधिक रिकॉर्ड भी नहीं रहा है. उसके पास कई लाइसेंसी बंदूकें थीं और 21 दिसंबर को वारदात के समय उसके पास काफी मात्रा में कारतूस था. प्राग के पुलिस प्रमुख मार्टिन वोंद्रासेक ने मीडिया को बताया कि हत्या करने वाले छात्र ने सुनियोजित तरीके से घटना को अंजाम दिया.

पुलिस ने उसका नाम जारी नहीं किया, लेकिन यह बताया कि वह खुद भी मर चुका है. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि उसने खुद अपनी जान ली या सुरक्षा अधिकारियों के साथ गोलीबारी में मारा गया.

"कट्टरपंथी विचारधारा या संगठन से संबंध नहीं"

घटना के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने कहा है कि वह तत्काल प्रभाव से यूनिवर्सिटी में सुरक्षा बढ़ाएगी. अपने बयान में विश्वविद्यालय ने मारे गए लोगों के प्रति शोक जताते हुए घटना से प्रभावित सभी लोगों के प्रति गहरी संवेदना जताई है.

जिस इमारत में यह हत्याकांड हुआ, वह स्क्वैयर प्राग के पुराने शहर में है और पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है. यहां से कुछ ही कदम दूर ओल्ड टाउन स्क्वैयर पर सजने वाले क्रिसमस बाजार में हजारों लोग आते हैं.

देश के आंतरिक मंत्री विट राकुसान ने कहा है कि जांचकर्ताओं को किसी कट्टरपंथी विचारधारा या समूह से घटना का संबंध नहीं मिला है. उन्होंने कहा, "इस घटना का अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद से कोई लेना-देना हो, ऐसा कोई संकेत नहीं है. यह बेहद खौफनाक अपराध है, ऐसा कुछ जिसका चेक रिपब्लिक ने पहले कभी अनुभव नहीं किया."

इस बीच घटना के बाद यूनिवर्सिटी ने सभी लेक्चर रद्द कर दिए हैं. घटना की शाम से ही लोग यूनिवर्सिटी इमारत के बाहर शोक जताते हुए मोमबत्ती जला रहे हैं. पुलिस ने एहतियातन कई स्कूलों और शैक्षणिक संस्थानों की सुरक्षा भी बढ़ा दी है.

एसएम/सीके (रॉयटर्स, एपी, एएफपी)