जरुरी जानकारी | बायर क्रॉपसाइंस ने टिड्डी नियंत्रण कार्य के लिए 5,500 लीटर डेल्टामेथ्रिन रसायन दिये

नयी दिल्ली, एक अगस्त बायर क्रॉपसाइंस लिमिटेड ने शनिवार को कहा कि उसने राजस्थान और पंजाब में टिड्डी नियंत्रण गतिविधियों के लिए 5,500 लीटर डेल्टामेथ्रिन रसायन प्रदान किया है।

कंपनी के एक बयान में कहा गया, ‘‘चूंकि रासायनिक नियंत्रण उपाय टिड्डी प्रबंधन के लिए अत्यधिक प्रभावी हैं, इसलिए राजस्थान और पंजाब राज्यों में टिड्डी नियंत्रण गतिविधियों के लिए 5,500 लीटर डेल्टामेथ्रिन प्रदान करके सरकार के प्रयासों का समर्थन कर रही है।’’

यह भी पढ़े | तमिलनाडु: ऑनलाइन क्लासेस के लिए स्मार्टफोन न मिलने पर 10वीं कक्षा के छात्र ने कथित तौर पर की आत्महत्या.

इन गतिविधियों से उत्तरी गुजरात में सीमावर्ती जिलों में टिड्डियों के प्रसार पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी।

डेल्टामेथ्रिन एक स्पेस स्प्रे फॉर्मूलेशन है जिसका इस्तेमाल थर्मल या यूएलवी (अल्ट्रा लो वॉल्यूम) फॉगिंग के जरिए उड़ने वाले कीटों के नियंत्रण के लिए किया जाता है। यह वर्तमान टिड्डियों के हमलों जैसे आपातकालीन स्थितियों के दौरान फायदेमंद साबित हुआ है।

यह भी पढ़े | 7th Pay Commission: कोरोना काल में सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, सैलरी- 62 हजार रुपये प्रतिमाह.

टिड्डियों के नियंत्रण के लिए डेल्टामेथ्रिन 1.25 यूएलवी को खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) द्वारा विश्व स्तर पर अनुशंसित किया गया है और इसे मार्च 2020 में भारत में टिड्डी नियंत्रण के लिए पंजीकरण समिति द्वारा अनुमोदित किया गया था।

बयान में कहा गया है, ‘‘टिड्डी दल मीलों तक फैल सकते हैं और ये बड़े और आक्रामक हो सकते हैं। इसे देखते हुए, सरकार के टिड्डी नियंत्रण अभियान में प्रभावी उत्पादों और फार्मूलेशन, नए वाहनों, यूएलवी स्प्रेयर, ड्रोन और हेलीकॉप्टरों के उपयोग को शामिल किया है।’’

भारत टिड्डी नियंत्रण के लिए ड्रोन के उपयोग को मंजूरी देने वाले देशों में से एक है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)