जरुरी जानकारी | अप्रैल में वनस्पति तेल का आयात 13 प्रतिशत घटकर 9.12 लाख टन रहा

नयी दिल्ली, 13 मई खाद्य एवं अखाद्य तेलों सहित वनस्पति तेलों का आयात अप्रैल 2022 में 13 प्रतिशत घटकर लगभग 9.12 लाख टन रह गया। उद्योग जगत के आंकड़ों में बताया गया है कि इस गिरावट का कारण कच्चा पामतेल (सीपीओ) का आयात कम होना है।

सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईए) ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि अप्रैल 2022 में वनस्पति तेलों का आयात घटकर 9,11,846 टन रह गया जो अप्रैल 2021 में 10,53,347 टन का रहा था।

खाद्य तेलों का आयात अप्रैल 2021 के 10,29,912 टन के मुकाबले घटकर अप्रैल 2022 में 9,00,085 टन रह गया। वहीं अखाद्य तेलों का आयात पहले के 23,435 टन से घटकर अप्रैल 2022 में 11,761 टन रह गया।

अप्रैल के महीने में सीपीओ का आयात घटकर 4,14,829 टन रहे गया जो पिछले वर्ष के समान अवधि में 6,89,731 टन था।

चालू तेल विपणन वर्ष (नवंबर 2021 से अप्रैल 2022) के दौरान की पहली छमाही के दौरान वनस्पति तेलों का आयात चार प्रतिशत बढ़कर 67,07,574 टन हो गया जो पिछले तेल विपणन वर्ष की समान अवधि में 64,28,350 टन था।

तेल विपणन वर्ष नवंबर से अक्टूबर तक चलता है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)