विदेश की खबरें | उत्तर कोरिया ने पेलोसी को ‘अतरराष्ट्रीय शांति को नष्ट करने वाली’ नेता करार दिया
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

पेलोसी ने ताइवान का दौरा करने के बाद दक्षिण कोरिया की यात्रा की। अमेरिकी नेता के ताइवान के दौरे से नाराज चीन ने ‘‘अभूतपूर्व पैमाने’’ पर सैन्य अभ्यास किए। चीन ताइवान को अपना क्षेत्र बताता है और विदेशी सरकारों के साथ उसके संबंधों का विरोध करता है।

दक्षिण कोरिया के दौरे में पेलोसी ने उत्तर कोरिया के निकट एक सीमावर्ती क्षेत्र का दौरा किया और दक्षिण कोरिया नेशनल असेंबली के अध्यक्ष किम जिन प्यो के साथ उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम पर चर्चा की।

किम जिन प्यो के अनुसार, दोनों देश उत्तर कोरिया के खिलाफ मजबूत एवं विस्तारित प्रतिरोध एवं कूटनीति के आधार पर कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण और शांति स्थापना के लिए दबाव बनाने के वास्ते सहयोग करने पर सहमत हुए।

उत्तर कोरियाई विदेश मंत्रालय के प्रेस एवं सूचना मामलों के विभाग के महानिदेशक जो योंग सैम ने पेलोसी की यात्रा और उत्तर कोरियाई प्रतिरोध संबंधी चर्चा को लेकर शनिवार को उनकी आलोचना की।

सरकारी मीडिया ने जो योंग के हवाले से एक बयान में कहा, “पेलोसी ताइवान का दौरा करके क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को नष्ट करने के कारण चीन की उचित आलोचना के घेरे में आ गई हैं। उन्होंने दक्षिण कोरिया की यात्रा के दौरान उत्तर कोरिया के साथ टकराव का माहौल पैदा किया है।”

पेलोसी को “अंतरराष्ट्रीय शांति और स्थिरता की सबसे बड़ी विध्वंसक” बताते हुए जो योंग ने कहा कि दक्षिण कोरिया में पेलोसी के व्यवहार ने उत्तर कोरिया के प्रति बाइडन प्रशासन की शत्रुतापूर्ण नीति को स्पष्ट रूप से दर्शाया है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)