विदेश की खबरें | अमेरिका में भारतीय नागरिक ने बुजुर्गों को ठगने का जुर्म किया स्वीकार
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

वाशिंगटन, पांच अगस्त यहां रह रहे एक भारतीय नागरिक ने अमेरिकी बुजुर्गों को ठगने का जुर्म स्वीकार कर लिया है।

आशीष बजाज (29) को अधिकतम 20 साल तक की सजा हो सकती है।

अदालत के दस्तावेजों के अनुसार, अप्रैल 2020 से अगस्त 2021 तक बजाज और उसके कुछ साथियों ने खुद को विभिन्न बैंकों, ऑनलाइन खुदरा विक्रेताओं तथा ऑनलाइन भुगतान कंपनियों का धोखाधड़ी निवारण विशेषज्ञ बताते हुए अमेरिका के बुजुर्ग नागरिकों को निशाना बनाया।

दस्तावेजों के अनुसार, बजाज और उसके साथियों ने बुजुर्ग लोगों को अपने बैंक खातों से बजाज और अन्य द्वारा नियंत्रित खातों में पैसे भेजने के लिए कहा और कथित ‘स्टिंग ऑपरेशन’ के कुछ दिन बाद उनके पैसे वापस करने का झूठा वादा किया। पीड़ितों ने उनकी बातों में आकर पैसे स्थानांतरित किए। ये पैसे भारत, चीन, सिंगापुर और संयुक्त अरब अमीरात स्थित विभिन्न बैकों में भेजे गए।

न्याय मंत्रालय के अनुसार, ‘‘ पीड़ितों ने ऑनलाइन माध्यम से बजाज के अमेरिका में खोले गए कई बैंक खातों में भी पैसे भेजे...।’’

मंत्रालय के अनुसार, इस तरह से लोगों से 2,50,000 डॉलर से अधिक राशि ठगी गई।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)