दिल्ली पुलिस ने 24 घंटे के भीतर 5 वर्षीय लड़की को उसके माता-पिता से मिलवाया

दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर सोहन लाल और कोमल के प्रयासों के बाद 24 घंटे के भीतर एक पांच साल की बच्ची की बच्ची को अपने परिवार से वापस मिलवा दिया. दरअसल यह बच्ची अपने भाई - बहन के साथ बाहर खेलने गई थी इसी दौरान वह लापता हो गई थी.

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit- PTI)

नई दिल्ली, 13 मई : दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के सब-इंस्पेक्टर सोहन लाल और कोमल के प्रयासों के बाद 24 घंटे के भीतर एक पांच साल की बच्ची की बच्ची को अपने परिवार से वापस मिलवा दिया. दरअसल यह बच्ची अपने भाई - बहन के साथ बाहर खेलने गई थी इसी दौरान वह लापता हो गई थी. दक्षिण दिल्ली के कोटला मुबारकपुर पुलिस स्टेशन के सभी कर्मचारियों ने शारीरिक रूप से और साथ ही सोशल मीडिया के माध्यम से लड़की के माता-पिता को खोजने के लिए हर संभव प्रयास किया.

बुधवार को कोटला मुबारकपुर की रहने वाली एक ज्योति को सेवा नगर सब्जी मंडी बाजार में लड़की मिली. उसने पास के इलाके में अपने माता-पिता को खोजने की कोशिश की लेकिन कुछ भी हल नहीं निकला. इसके बाद, लड़की को पुलिस स्टेशन ले जाया गया और उसे कोटला मुबारकपुर पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) इंस्पेक्टर विनय त्यागी के संज्ञान में लाया गया. त्यागी ने अपने कर्मचारियों के साथ हरसंभव कोशिश की और लड़की की तस्वीर को आसपास के पुलिस स्टेशनों, व्हाट्सएप ग्रुप, मार्केट कमेटी ग्रुप और पुलिस मित्रा ग्रुप के साथ साझा किया गया और सभी स्टाफ को लड़की के माता-पिता के ठिकाने की खोज करने के लिए जानकारी दी गई. यह भी पढ़ें : Bihar Lockdown: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया ऐलान- बिहार में 25 मई तक बढ़ा लॉकडाउन

दक्षिण दिल्ली के पुलिस उपायुक्त अतुल ठाकुर ने कहा कि बीट स्टाफ, सोशल मीडिया ग्रुप और पुलिस टीम द्वारा ईमानदारी से समर्पित टीमवर्क के जरिए, बच्ची के माता-पिता का पता लगाया गया. लड़की के पिता धर्मबीर, जो कि के.एम. पुर के बापू पार्क के पास रहते हैं, उन्होंने कहा कि उनकी बेटी अपने भाई-बहनों के साथ खेलते हुए घर से लापता हो गई. "लड़की के माता-पिता भी उसे खोज रहे थे लेकिन उसका पता नहीं लगा सके." अधिकारी ने कहा कि सब इंस्पेक्टर सोहन लाल और कोमल के प्रयासों का नतीजा निकला और बच्ची अपने परिवार को मिल गई. वैश्विक महामारी कोविड-19 के मद्देनजर, ठाकुर ने कहा कि किसी भी दुर्घटना को रोकने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश के अनुसार अपराध की रोकथाम और गश्त तेज कर दी गई है. प्रभावी गश्त ने हमें अच्छा परिणाम दिया.