विदेश की खबरें | आपकी विशिष्ट गंध यह संकेत दे सकती है कि आपको क्या बीमारी है
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

डबलिन (आयरलैंड), 12 फरवरी (द कन्वरसेशन) हमारे शरीर से हर सेकंड सैकड़ों रसायन हवा में प्रवाहित होते हैं। ये रसायन हवा में आसानी में घुल जाते हैं क्योंकि इनमें वाष्प का दबाव अधिक होता है, जिसका अर्थ है कि वे उबल जाते हैं और कमरे के तापमान पर गैस में बदल जाते हैं। वे इस बात का पता देते हैं कि हम कौन हैं और कितने स्वस्थ हैं।

प्राचीन यूनानी काल से, हम जानते हैं कि जब हम अस्वस्थ होते हैं तो हमारी गंध अलग-अलग होती है। जबकि आज हम रक्त विश्लेषण पर भरोसा करते हैं, प्राचीन यूनानी चिकित्सक बीमारियों के निदान के लिए गंध का उपयोग करते थे। आपकी सांस का एक झोंका लेकर वह बता सकते थे कि आपको फेटोर हेपेटिकस (मतलब खराब लीवर) है, तो इसका मतलब होता था कि आप लीवर की बीमारी की ओर बढ़ सकते हैं।

यदि किसी व्यक्ति की सांस की हवा में मीठापन या फलों की गंध होती थी, तो चिकित्सकों का निष्कर्ष होता था कि पाचन तंत्र में शर्करा टूट नहीं रही है, और उस व्यक्ति को संभवतः मधुमेह है। विज्ञान ने तब से दिखाया है कि प्राचीन यूनानी सही थे - जिगर की विफलता और मधुमेह तथा संक्रामक रोगों सहित कई अन्य बीमारियाँ आपकी सांसों को एक विशिष्ट गंध देती हैं।

1971 में, नोबेल पुरस्कार विजेता रसायनज्ञ लिनुस पॉलिंग ने सांस में 250 विभिन्न गैसीय रसायनों की गिनती की। इन गैसीय रसायनों को वाष्पशील कार्बनिक यौगिक या वीओसी कहा जाता है।

पॉलिंग की खोज के बाद से, अन्य वैज्ञानिकों ने हमारी सांसों में सैकड़ों और वीओसी की खोज की है। हमने सीखा है कि इनमें से कई वीओसी में विशिष्ट गंध होती है, लेकिन कुछ में कोई गंध नहीं होती जिसे हमारी नाक समझ सके।

वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि वीओसी में भले ऐसी कोई गंध है जिसे हमारी नाक पहचान सकती है या नहीं, वे यह जानकारी दे सकते हैं कि कोई कितना स्वस्थ है।

एक स्कॉटिश व्यक्ति के पार्किंसंस रोग की शुरुआत की पहचान उसकी पत्नी, सेवानिवृत्त नर्स जॉय मिलनर ने की थी, जब उसे यकीन हो गया था कि 2005 में निदान होने से कई साल पहले उसकी गंध बदल गयी थी। इस खोज ने इस रोग की गंध की सटीक पहचान करने के लिए जॉय मिलनर से जुड़े शोध कार्यक्रमों की शुरूआत की। कुत्ते अपनी अधिक परिष्कृत घ्राण क्षमता के कारण मनुष्यों की तुलना में अधिक बीमारियों को सूंघ सकते हैं। लेकिन विश्लेषणात्मक टूल मास स्पेक्ट्रोमेट्री जैसी तकनीक वीओसी प्रोफाइल में और भी अधिक सूक्ष्म बदलावों को पकड़ती हैं, जिन्हें आंत, त्वचा और श्वसन रोगों के साथ-साथ पार्किंसंस जैसे न्यूरोलॉजिकल रोगों से जोड़ा जा रहा है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि एक दिन कुछ बीमारियों का निदान केवल एक उपकरण में सांस लेने से हो जाएगा।

सांस शरीर में वीओसी का एकमात्र स्रोत नहीं है। ये त्वचा, मूत्र और मल से भी उत्सर्जित होते हैं।

त्वचा से वीओसी लाखों त्वचा ग्रंथियों द्वारा शरीर से चयापचय अपशिष्ट, साथ ही हमारी त्वचा पर रहने वाले बैक्टीरिया और अन्य रोगाणुओं द्वारा उत्पन्न अपशिष्ट को हटाने का परिणाम है। पसीना इन जीवाणुओं के चयापचय के लिए अतिरिक्त पोषक तत्वों का उत्पादन करता है जिसके परिणामस्वरूप विशेष रूप से गंधयुक्त वीओसी हो सकते हैं। हालाँकि, पसीने से आने वाली गंध वीओसी की गंध का केवल एक अंश ही बनाती है।

हमारी त्वचा और हमारी आंत के माइक्रोबायोम इन रोगाणुओं के नाजुक संतुलन से बने होते हैं। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि वे हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं, लेकिन हम अभी तक इस बारे में बहुत कुछ नहीं समझ पाए हैं कि यह रिश्ता कैसे काम करता है।

आंत के विपरीत, त्वचा का अध्ययन करना अपेक्षाकृत आसान है - आप शरीर में गहराई तक जाए बिना जीवित मनुष्यों से त्वचा के नमूने एकत्र कर सकते हैं। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि त्वचा वीओसी इस बात की जानकारी दे सकते हैं कि माइक्रोबायोम के बैक्टीरिया और मानव शरीर हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखने और हमें बीमारी से बचाने के लिए कैसे मिलकर काम करते हैं।

मेरी टीम की प्रयोगशाला में, हम जांच कर रहे हैं कि क्या त्वचा वीओसी हस्ताक्षर उस व्यक्ति की विभिन्न विशेषताओं को प्रकट कर सकता है जिससे वह संबंधित है। त्वचा वीओसी हस्ताक्षरों के जरिए मिलने वाले संकेतों से ही संभवतः कुत्ते गंध से लोगों के बीच अंतर कर पाते हैं।

हम इस शोध क्षेत्र में अपेक्षाकृत प्रारंभिक चरण में हैं, लेकिन हमने दिखाया है कि आप त्वचा से वीओसी कितने अम्लीय हैं, इसके आधार पर पुरुषों और महिलाओं में फर्क कर सकते हैं। हम इसे देखने के लिए मास स्पेक्ट्रोमेट्री का उपयोग करते हैं क्योंकि औसत मानव नाक इन वीओसी का पता लगाने के लिए पर्याप्त परिष्कृत नहीं है।

हम किसी व्यक्ति की त्वचा की वीओसी प्रोफ़ाइल से कुछ वर्षों के भीतर उचित सटीकता के साथ उसकी उम्र का अनुमान भी लगा सकते हैं। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ हमारे शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव बढ़ता जाता है।

ऑक्सीडेटिव तनाव तब होता है जब आपके एंटीऑक्सीडेंट का स्तर कम होता है और हमारी कोशिकाओं और अंगों को अपरिवर्तनीय क्षति पहुंचाता है। हमारे हालिया शोध में त्वचा वीओसी प्रोफाइल में इस ऑक्सीडेटिव क्षति के उप-उत्पाद पाए गए।

ये वीओसी न केवल व्यक्तिगत गंध के लिए जिम्मेदार हैं - इनका उपयोग पौधों, कीड़ों और जानवरों द्वारा संचार चैनल के रूप में किया जाता है। पौधे परागणकों, शाकाहारी जीवों, अन्य पौधों और उनके प्राकृतिक शत्रुओं जैसे हानिकारक बैक्टीरिया और कीड़ों सहित अन्य जीवों के साथ निरंतर वीओसी संवाद में रहते हैं। इस आगे और पीछे के संवाद के लिए उपयोग किए जाने वाले वीओसी को फेरोमोन के रूप में जाना जाता है।

प्रेम फेरोमोन के बारे में विज्ञान ने क्या दिखाया है? जानवरों के साम्राज्य में, इस बात के अच्छे सबूत हैं कि वीओसी कामोत्तेजक के रूप में कार्य कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, चूहों में रोगाणु होते हैं जो ट्राइमेथिलैमाइन नामक एक विशेष रूप से बदबूदार यौगिक में योगदान करते हैं, जो चूहों को संभावित साथी की प्रजातियों को सत्यापित करने में मदद देता है। सूअरों और हाथियों में भी सेक्स फेरोमोन होते हैं।

यह संभव है कि मनुष्य भी सही साथी को आकर्षित करने के लिए वीओसी का उत्पादन करते हैं। वैज्ञानिकों ने अभी तक त्वचा - या हमारे शरीर से निकलने वाले अन्य वीओसी को पूरी तरह से डिकोड नहीं किया है। लेकिन मानव प्रेम फेरोमोन के अब तक के साक्ष्य विवादास्पद हैं। एक सिद्धांत से पता चलता है कि वे लगभग दो करोड़ तीस लाख वर्ष पहले खो गए थे जब प्राइमेट्स ने पूर्ण रंग दृष्टि विकसित की और एक साथी चुनने के लिए अपनी बढ़ी हुई दृष्टि पर भरोसा करना शुरू कर दिया।

हालाँकि, हमारा मानना ​​है कि मानव फेरोमोन मौजूद हैं या नहीं, त्वचा वीओसी यह बता सकते हैं कि उम्र बढ़ने, पोषण और फिटनेस, प्रजनन क्षमता और यहां तक ​​कि तनाव के स्तर जैसी चीजों के संदर्भ में हम कौन और कैसे हैं। इस हस्ताक्षर में संभवतः मार्कर शामिल हैं जिनका उपयोग हम अपने स्वास्थ्य की निगरानी और बीमारी का निदान करने के लिए कर सकते हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)