देश की खबरें | केन्द्र के अध्यादेश की प्रतियां अब नहीं जलाएगी आप; कहा-मामला अदालत में लंबित

नयी दिल्ली, 30 जून दिल्ली में प्रशासनिक सेवाओं के नियंत्रण पर केंद्र के अध्यादेश की प्रतियां यहां आम आदमी पार्टी (आप) के कार्यालय पर जलाने की घोषणा के कुछ घंटे बाद पार्टी ने इस तरह का कोई कदम नहीं उठाने की बात कही क्योंकि यह विषय न्यायालय में विचाराधीन है।

गौरतलब है कि आप नीत दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को अदालत का रुख किया और इस अध्यादेश की संवैधानिकता को चुनौती दी। पार्टी ने कहा कि यह संविधान के मूल ढांचे को कमतर करने का केंद्र का असंवैधानिक प्रयास है।

आप सरकार ने अध्यादेश को रद्द करने के साथ-साथ उसपर अंतरिम रोक लगाने का भी अनुरोध किया है।

दिन में आप ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तीन जुलाई को मध्य दिल्ली में पार्टी कार्यालय पर केंद्र के अध्यादेश की प्रतियां जलाएंगे।

पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने यहां संवाददाताओं से कहा कि राष्ट्रीय राजधानी की सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में अध्यादेश की प्रतियां जलाई जाएंगी।

वहीं, देर शाम जारी एक बयान में पार्टी ने कहा, ‘‘आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और आप का शीर्ष नेतृत्व ना तो प्रतियां जलाएगा और ना ही तीन जुलाई को अध्यादेश के खिलाफ प्रदर्शनों में हिस्सा लेगा क्योंकि मामला फिलहाल उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है। सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं।’’

वहीं, दिन में भारद्वाज ने आरोप लगाया था कि केंद्र इस काले अध्यादेश के माध्यम से दिल्ली पर अवैध तरीके से नियंत्रण करने का प्रयास कर रहा है।

पार्टी ने 11 जून को अध्यादेश के खिलाफ महारैली भी की थी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)