जरुरी जानकारी | याहू, एओएल को 5 अरब डॉलर में बेचेगी वेरिजॉन

न्यूयार्क, तीन मई अमेरिकी कंपनी वेरिजॉन ने सोमवार को कहा कि वह अपनी मीडिया इकाई...एओएल और याहू में अपनी हिस्सेदारी निजी इक्विटी कंपनी को 5 अरब डॉलर में बेचेगी।

वेरिजॉन ने कहा कि वह वेरिजॉन मीडिया को अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट को बेचेगी।

कंपनी के अनुसार वह नई कंपनी में 10 प्रतिशत हिस्सेदारी रखेगी। इस नई कंपनी को याहू कहा जाएगा।

याहू पिछली सदी के अंत में इंटरनेट का जाना-माना चेहरा था। बाद में गूगल और फेसबुक जैसी कंपनियों के आने के साथ याहू की बाजार हिस्सेदारी कम होती चली गयी।

एओएल पोर्टल था जो इंटरनेट के शुरूआती दिनों में उपयोग करने वालों को आकर्षित करता था और उन्हें जोड़ता था।

वेरिजॉन ने 2015 में एओएल का अधिग्रहण किया था। इस पर उसने 4 अरब डॉलर से अधिक खर्च किया था। उम्मीद थी कि एओएल के अधिग्रहण के साथ वह तेजी से मोबाइल बाजार में प्रवेश करेगी। योजना के अनुसार डिजिटल विज्ञापन बिक्री के लिये एओल के मजबूत विज्ञापन मंच का उपयोग करना था।

इसके दो साल बाद उसने याहू का अधिग्रहण किया था।

लेकिन जिस तेजी से गूगल और फेसबुक बढ़े, उससे वेरिजॉन की उम्मीदों को झटका लगा और यह साफ हो गया कि जिस उम्मीद से उसने अधिग्रहण किया था, वह पूरा नहीं हो पाएगा।

सौदे के तहत वेरिजॉन को 4.25 अरब डॉलर नकद, 75 करोड़ डॉलर का तरजीही ब्याज और अल्पांश हिस्सेदारी मिलेगी।

सौदा इस साल की दूसरी छमाही में पूरा होने की उम्मीद है।

एपी

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)