देश की खबरें | पश्चिम बंगाल पुलिस ने संदेशखालि में महिलाओं को सुरक्षा का आश्वासन दिया

कोलकाता, 12 फरवरी पश्चिम बंगाल पुलिस को हिंसा प्रभावित संदेशखालि के लोगों से केवल चार शिकायतें मिली हैं लेकिन इनमें से किसी में बलात्कार या यौन उत्पीड़न की बात नहीं है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को यह दावा किया।

अधिकारी ने कहा कि वहां हिंसा की घटनाओं की जांच के लिए डीआइजी रैंक की एक महिला अधिकारी के नेतृत्व में 10 सदस्यीय टीम का गठन किया गया है। उन्होंने महिलाओं को पूरी सुरक्षा का आश्वासन दिया और उनसे आग्रह किया कि अगर वे शिकायत दर्ज कराना चाहती हैं तो पुलिस से संपर्क करें।

अधिकारी ने कहा कि उन्हें चार शिकायत मिली हैं जिनमें से एक में भी दुष्कर्म या किसी सांप्रदायिक तरह की बात नहीं है।

उन्होंने कहा कि एसपी स्तर की एक महिला अधिकारी ने इलाके में घरों का दौरा कर महिलाओं से बात की है।

उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार ने डीआईजी रैंक की एक महिला अधिकारी की अध्यक्षता में 10 सदस्यीय दल बनाया था। यह दल जांच शुरू करेगा। अगर शिकायत होती है तो उन्हें पुलिस के पास आना चाहिए। उनकी शिकायत पर विचार होगा।’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘राज्य सरकार इस मुद्दे पर बहुत चिंतित है।’’

इससे पहले पश्चिम बंगाल महिला आयोग के एक दल ने आज संदेशखालि के प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और महिलाओं से बात की। महिलाओं ने तृणमूल कांग्रेस के फरार नेता शाहजहां शेख और उसके समर्थकों पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

आयोग की अध्यक्ष लीना गंगोपाध्याय और एक अन्य महिला सदस्य ने संदेशखालि में अनेक महिलाओं से बातचीत की।

राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी पश्चिम बंगाल सरकार को पत्र लिखकर संदेशखालि में लग रहे आरोपों पर 48 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने को कहा है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)