विदेश की खबरें | यूएसएड की प्रशासक ने भारत को कोविड-19 मदद की समीक्षा की, भारतीय राजदूत के साथ वार्ता की

वाशिंगटन, चार मई यूएसएड की प्रशासक सामांथा पावर ने उपराष्ट्रपति कमला हैरिस द्वारा शपथ दिलाए जाने के कुछ देर बाद ही भारत को दी जा रही कोविड-19 सहायता की समीक्षा की और भारतीय राजदूत तरणजीत सिंह संधू के साथ ऑनलाइन बैठक की जिसमें उन्होंने पुन:पुष्टि की कि अमेरिका जानलेवा वायरस के खिलाफ लड़ाई में भारत के लोगों की मदद करने के लिए अथक रूप से काम करता रहेगा।

संयुक्त राज्य अंतरराष्ट्रीय विकास एजेंसी (यूएसएड) ने एक बयान में बताया कि पावर ने वैश्विक कोविड-19 महामारी से निपट रही टीमों से सीधे संवाद किया और उन्होंने अपना ध्यान विशिष्ट तौर पर भारत में महामारी के मौजूद प्रकोप पर केंद्रित किया।

यूएसएड अमेरिकी संघीय सरकार की एक स्वतंत्र एजेंसी है जिसकी प्राथमिक जिम्मेदारी असैन्य विदेशी मदद और विकास सहायता देना है।

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की पूर्व राजदूत पावर ने अमेरिका के वैश्विक राहत प्रयासों पर चर्चा करने के लिए यूएसएड के कोविड-19 कार्य बल से मुलाकात की।

कार्य बल के कार्यकारी निदेशक जेरेमी कोनडाइक और अन्य कर्मियों ने भारत को अमेरिकी मदद के बारे में जानकारी दी जिसमें छह विमानों के जरिए ऑक्सीजन सिलेंडर, एन95 मास्क, रैपिड डायनौस्टिक टेस्ट और दवाइयों की आपूर्ति शामिल है।

बैठक के दौरान, उन्होंने एक बार फिर पुष्टि की कि अमेरिका भारत में अपने साझेदारों को सहायता और मदद उपलब्ध कराने के लिए 24 घंटे काम करना जारी रखेगा।

उन्होंने हाल में जारी दिशा-निर्देशों को रेखांकित किया जो जीवन रक्षक व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण हासिल करने को सरल बनाएगा।

पावर ने यूएसएड के नई दिल्ली में मौजूद मिशन से भी बात की और मिशन द्वारा भारतीयों की मदद के लिए किए जा रहे कामों तथा मिशन के कर्मियों तथा उनके परिवारों पर महामारी के प्रभाव के बारे में जानकारी ली।

यूएसएड ने बयान में बताया कि पावर ने अमेरिका में भारतीय राजदूत संधू से ऑनलाइन भेंट की। बैठक के दौरान, उन्होंने फिर से पुष्टि की कि अमेरिका भारत के लोगों का समर्थन करने के लिए अथक प्रयास करेगा और अमेरिकी लोगों की ओर से फिर से हार्दिक संवेदनाएं भेजीं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)