जरुरी जानकारी | एनिमेशन क्षेत्र पर आने वाली नीति निवेश को सुविधाजनक बनाएगीः सचिव

मुंबई, पांच मार्च एनिमेशन, विजुअल इफेक्ट्स, गेमिंग और कॉमिक्स (एवीजीसी) के बारे में प्रस्तावित नीति इस क्षेत्र में निवेश को सुविधाजनक बनाएगी, नवाचार को प्रोत्साहन देगी और देश में विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचे के निर्माण में योगदान देगी।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव संजय जाजू ने मंगलवार को यहां मीडिया एवं उद्योग कार्यक्रम ‘फिक्की फ्रेम्स’ के 24वें संस्करण में यह बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार का ध्यान उद्योग के विकास के लिए अनुकूल माहौल बनाने पर होगा।

जाजू ने कहा, ‘‘मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि एवीजीसी नीति न केवल हमारे देश और राज्यों के भीतर निवेश को सुविधाजनक बनाएगी बल्कि नवाचार को भी बढ़ावा देगी। यह नीति अपने उन्नत चरण में है।’’

उन्होंने कहा कि प्रस्तावित नीति के लागू होने पर कौशल विकास सुनिश्चित होगा, बौद्धिक संपदा के संरक्षण में मदद मिलेगी और विश्व-स्तरीय बुनियादी ढांचे के निर्माण में भी योगदान मिलेगा।

उन्होंने कहा, ‘‘हम इन्क्यूबेशन केंद्र स्थापित करने के साथ-साथ एनिमेशन, वीएफएक्स और विस्तारित रियलिटी क्षेत्र के लिए एक राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने की भी परिकल्पना कर रहे हैं।’’

सूचना एवं प्रसारण सचिव ने कहा कि सरकार समाज को आकार देने, दृष्टिकोण को प्रभावित करने और सामूहिक प्रयासों को दर्शाने में भारतीय मीडिया एवं मनोरंजन (एम एंड ई) क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका को पहचानती है।

उन्होंने कहा, ‘‘भारत डिजिटल बदलाव के दौर से गुजर रहा है और ऑनलाइन सामग्री की उपलब्धता के साथ इस क्षेत्र में तेजी से बदलाव भी देखा जा रहा है। देश में खासकर ओटीटी खंड में विदेशी निवेश भी तेजी से बढ़ रहा है।’’

जाजू ने कहा कि सरकार विदेशी फिल्म निर्माताओं को भारत आकर फिल्में बनाते हुए देखना चाहती है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारा ध्यान उद्योग को फलने-फूलने के लिए अनुकूल माहौल बनाने पर होगा। सभी हितधारकों को बड़े अवसरों का लाभ उठाने के लिए सहयोग और नवाचार करने की जरूरत है।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)