देश की खबरें | तृणमूल कांग्रेस की छात्र शाखा ने बर्दवान विश्वविद्यालय में कार्यकारी परिषद की बैठक नहीं होने दी

कोलकाता, 11 जुलाई तृणमूल कांग्रेस की छात्र शाखा तृणमूल छात्र परिषद (टीएमसीपी) के सदस्यों ने बृहस्पतिवार को बर्दवान विश्वविद्यालय की कार्यकारी परिषद की बैठक बाधित करते हुए कुलपति और रजिस्ट्रार कार्यालयों के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

वे प्रोफेसर गौतम चक्रवर्ती के अंतरिम कुलपति के तौर पर बने रहने और उनके अकादमिक एवं प्रशासनिक निर्णय लेने का विरोध कर रहे थे।

परिषद के सदस्य नारेबाजी करते हुए प्रशासनिक भवन में घुस गए जिससे बैठक निलंबित करनी पड़ी।

प्रदर्शनकारियों ने पार्किंग स्थल पर रजिस्ट्रार सुजीत चौधरी के पहुंचने पर उनका घेराव किया और मांग की कि जब तक उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित खोज समिति राज्यस्तरीय 31 विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की नियुक्ति का विषय देख रही है तब तक ऐसी बैठकें नहीं होनी चाहिए।

तृणमूल छात्र परिषद के एक प्रवक्ता ने जेल में बंद माओवादी नेता अर्नब दाम के पीएचडी आवेदन से निपटने के विश्वविद्यालय के तौर तरीके की आलोचना की और आरोप लगाया कि पीएचडी प्रवेश परीक्षा सफलतापूर्वक उत्तीर्ण करने के बाद भी अलोकतांत्रिक प्रक्रिया अपनाई जा रही है।

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘जब तक दाम को पीएचडी करने की अनुमति नहीं मिलती है तब तक हम अपना आंदोलन जारी रखेंगे।’’

तृणमूल नेता कुणाल घोष ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर लिखा, ‘‘माओवादी होने के आरोप में गिरफ्तार किए गए अर्नब दाम को पीएचडी करने की अनुमति दी जानी चाहिए। उन्होंने अपनी मेधा साबित की है।’’

इस विषय पर प्रतिक्रिया लेने के लिए बर्दवान विश्वविद्यालय के कुलपति से संपर्क करने की कोशिश विफल रही।

विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि कार्यकारी परिषद की बैठक के लिए कई प्रशासनिक एवं अकादमिक मामले सूचीबद्ध थे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)