जरुरी जानकारी | अपीलीय न्यायाधिकरण के पूर्व चेयरपर्सन ने कार्यकाल घटाये जाने को न्यायालय में चुनौती दी

नयी दिल्ली, 15 सितंबर राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) के पूर्व चेयरपर्सन न्यायमूर्ति अशोक इकबाल सिंह चीमा ने अपना कार्यकाल घटाये जाने को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है।

मामला मुख्य न्यायाधीश एन वी रमण, न्यायाधीश सूर्यकांत और न्यायाधीश हीमा कोहली की पीठ के समक्ष बृस्पतिवार को सुनवाई के लिये सूचीबद्ध है।

चीमा ने अपनी याचिका में कार्यकाल कम किये जाने को मनमाना करार दिया है।

इससे पहले, दिन में शीर्ष अदालत ने न्यायमूर्ति एम वेणुगोपाल को ‘जल्दबाजी’ में अपीलीय न्यायाधिकरण का कार्यवाहक चेयरपर्सन बनये जाने पर अप्रसन्नता जतायी थी।

न्यायालय ने इस बात पर ऐतराज जताया था कि चीमा 20 सितंबर को सेवानिवृत्त होने वाले थे, लेकिन उससे पहले ही ‘जल्दबाजी’ में उन्हें हटाकर न्यायमूर्ति वेणुगोपाल को उनकी जगह नियुक्त कर दिया गया।

वेणुगोपाल को 11 सितंबर, 2021 को अपीलीय न्यायाधिकरण का कार्यवाहक चेयरपर्सन नियुक्त किया गया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)