विदेश की खबरें | फिनलैंड में साथी छात्रों पर गोलीबारी के आरोपी किशोर ने कहा- मुझे परेशान किया जा रहा था
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

इस स्तब्ध करने वाली घटना के शोक में बुधवार को फिनलैंड में एक दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है।

संदिग्ध छठी कक्षा का छात्र है और राजधानी हेलसिंकी के बाहर स्थित वांता शहर के स्कूल में पढ़ाई करता है। उसे मंगलवार की सुबह गोलीबारी की घटना के एक घंटे के भीतर पकड़ लिया गया था।

पुलिस ने बताया कि आरोपी छात्र और पीड़ित एक ही कक्षा में पढ़ते थे।

मामले की जांच कर रहे पूर्वी यूसीमा पुलिस विभाग ने एक बयान में बताया कि ‘‘हमले को परेशान करने की वजह से अंजाम दिया गया।’’

बयान के मुताबिक, ‘‘संदिग्ध ने पूछताछ के दौरान बताया कि उसे परेशान किया जा रहा था और इस जानकारी की पुलिस ने भी अपनी शुरुआती जांच में पुष्टि की है। संदिग्ध को इसी साल के शुरुआत में वियेरतोला स्कूल में स्थानांतरित किया गया था।’’

फिनलैंड के कानून के तहत अपराध के लिए जिम्मेदार ठहराने के लिए न्यूनतम उम्र 15 साल है, इसका अभिप्राय है कि संदिग्ध को औपचारिक रूप से गिरफ्तार नहीं किया जा सकता। यहां के कानून के मुताबिक 15 साल से कम उम्र के संदिग्ध को बाल कल्याण अधिकारियों के हवाले करने से पहले पुलिस केवल पूछताछ कर सकती है।

फिनलैंड का नीले और सफेद रंग का राष्ट्रीय ध्वज घटना के शोक में बुधवार को आधा झुका रहा। अभिभावक, शिक्षक और साथी छात्रों सहित कई लोगों ने स्कूल की इमारत के पास उस स्थान पर फूल चढ़ाए और मोमबत्तियां जलाईं, जहां गोलीबारी हुई थी।

पुलिस ने बताया कि घटना में घायल लड़कियों में एक के पास फिनलैंड-कोसोवो की दोहरी नागरिकता है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)