देश की खबरें | रेमडेसिविर विवाद: महाराष्ट्र के भाजपा सांसद ने उच्च न्यायालय के सामने आरोपों का खंडन किया

मुंबई, तीन मई भाजपा सांसद सुजय विखे पाटिल ने बंबई उच्च न्यायालय की औरंगाबाद पीठ के सामने सोमवार को इन खबरों का खंडन किया कि उन्होंने कोविड-19 के मरीजों के इलाज में काम आने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की 10,000 शीशियां दिल्ली से खरीदी हैं।

औरंगाबाद से भाजपा सांसद के वकील शिरीष गुप्ते ने न्यायमूर्ति आर वी घुगे की अगुवाई वाली पीठ से कहा कि पाटिल ने 15 डिब्बों को चंडीगढ़ से शिरडी हवाई अड्डे तक पहुंचवाया था और हर डिब्बे में रेमडेसिविर की 80 शीशियां थीं।

गुप्ते ने कहा,“ 1200 शीशियां तब अहमदनगर जिला नागरिक अस्पताल को सौंप दी गई थीं। इससे पहले, रेमडेसिविर की 500 शीशियों को पुणे की सदाशिव की फार्मैडियल कंपनी से खरीदा गया था और अस्पताल को दे दिया गया था।”

उन्होंने कहा कि यह साबित करने के लिए रसीदें और कागज़ात हैं।

पाटिल ने सोमवार को एक आवेदन दायर कर अनुरोध किया कि चार कृषि विशेषज्ञों द्वारा दायर याचिका में उन्हें एक पक्ष बनाया जाए। इस याचिका में पिछले महीने एक निजी उड़ान से रेमडेसिविर इंजेक्शन दिल्ली से अहमनगर लाने के आरोप में पाटिल के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई शुरू करने का आग्रह किया गया है।

गुप्ते ने कहा, “ आवेदक (पाटिल) ने रेमडेसिविर की 1200 शीशियों को निजी उड़ान से चंडीगढ़ से शिरडी पहुंचाया है। हम नहीं जानते हैं कि 10,000 शीशियों का यह आंकड़ा कैसे आया और कौन लेकर आया और यह कि इसे दिल्ली से लाया जा रहा था।”

अदालत पाटिल के आवेदन पर पांच मई को विचार करेगी।

न्यायमूर्ति घुगे ने कहा, “ आपके मुवक्किल (पाटिल) को आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है। उन्हें विमान और हवाई अड्डे में खुद को रिकॉर्ड करके और वीडियो अपलोड करके यह दावा करने की जरूरत नहीं थी कि उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में लोगों के लिए दवा खरीदने के लिए अपने संपर्कों का उपयोग किया है। उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था।”

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)