विदेश की खबरें | जलवायु परिवर्तन पर हालिया संकल्प से लक्ष्य के करीब पहुंचने में मिल सकती है मदद : वैज्ञानिक

छह साल पहले 190 से ज्यादा देश अगली सदी तक औसत तापमान में वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने में सहमत हुए थे।

अध्ययनकर्ताओं के समूह ‘क्लाइमेट एक्शन ट्रैकर’ ने देशों द्वारा जताए गए संकल्प के आधार पर कहा है कि मौजूदा उत्सर्जन के हिसाब से 0.9 डिग्री सेल्सियस तक की कटौती हो पाएगी।

‘न्यू क्लाइमेट इंस्टीट्यूट’ के वैज्ञानिक निकलस होहने ने कहा कि अगर 131 देश ग्रीन हाउस उत्सर्जन को शून्य स्तर पर लाने में कामयाब रहे तो दो डिग्री सेल्सियस के लक्ष्य को पाया जा सकता है।

निकलस ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन तथा यूरोपीय संघ, चीन, जापान और ब्रिटेन के जलवायु परिवर्तन को लेकर हालिया महत्वाकांक्षी लक्ष्य से तापमान में कटौती अनुमान को संशोधित किया गया है।

उन्होंने कहा कि कटौती का लक्ष्य अब भी कम है और आगे बढ़ने के लिए इसमें और संशोधन की जरूरत है।

जर्मनी जलवायु परिवर्तन पर अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को लेकर चर्चा के लिए इस सप्ताह डिजिटल तरीके से 40 देशों की बैठक आयोजित कर रहा है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)