देश की खबरें | प्रधानमंत्री मोदी को रूस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान मिलना भारतीयों के लिए गौरव का अवसर: भाजपा

नयी दिल्ली, 10 जुलाई भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को रूस द्वारा अपने देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया जाना 140 करोड़ भारतीयों के लिए गर्व एवं संतोष का अवसर है।

भाजपा प्रवक्ता और सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दुनिया में भारत से इतर कोई अन्य देश ऐसी विशिष्टता नहीं रखता जिसे अमेरिका अपना रणनीतिक सहयोगी मानता है जबकि रूस उसे पारंपरिक साझेदार मानता है।

उन्होंने कहा, ''यह अवसर दिखाता है कि भारत वैश्विक मामलों में राजनीतिक समन्वय के उस स्तर पर पहुंच गया है जहां वह विश्व मंच पर 'सभ्यताओं के टकराव' की चर्चा के बीच भी सद्भाव को बढ़ावा दे सकता है।"

मोदी की विदेश नीति की आलोचना करने पर विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए त्रिवेदी ने कहा कि वे हर 'शुभ और सकारात्मक उपलब्धि' पर नकारात्मकता फैलाते हैं, यहां तक कि इस तरह के गर्व के क्षणों में भी।

उन्होंने कहा कि इजराइल-हमास संघर्ष के मुद्दे पर फलस्तीन का समर्थन करते हुए कांग्रेस सीडब्ल्यूसी में एक प्रस्ताव पारित किया गया था।

उन्होंने पूछा, ‘‘कांग्रेस को जवाब देना चाहिए कि यूक्रेन-रूस युद्ध पर कांग्रेस सीडब्ल्यूसी में कोई प्रस्ताव पारित क्यों नहीं किया गया था? कांग्रेस सीडब्ल्यूसी ने चीन-ताइवान, आर्मेनिया-अजरबैजान, इराक-कुवैत जैसे अन्य अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर कोई प्रस्ताव पारित क्यों नहीं किया?’’

त्रिवेदी ने कहा कि रूस द्वारा मोदी को दिया गया सम्मान न केवल उनके योगदान को मान्यता देता है, बल्कि उन्हें फ्रांस, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र, सऊदी अरब और यहां तक कि फलस्तीन जैसे देशों से सर्वोच्च नागरिक सम्मान प्राप्त करने वाले एकमात्र प्रधानमंत्री के रूप में भी अलग करता है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को एक समारोह में मोदी को अपने देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द अपोसल' से सम्मानित किया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)