देश की खबरें | परमबीर सिंह का पत्र : मुंबई के दो पुलिस अधिकारियों के बयान दर्ज किए गए

मुंबई, सात अप्रैल महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार और कदाचार के मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख के आरोपों के संबंध में महानगर पुलिस के दो अधिकारियों के बयान दर्ज किए गए हैं।

इस संबंध में एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि पुलिस उपायुक्त (प्रवर्तन) राजू भुजबल और सहायक पुलिस आयुक्त संजय पाटिल ने संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) के समक्ष हाल में अपने बयान दर्ज कराए।

मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक सामग्री वाली एक एसयूवी मिलने के मामले से निपटने को लेकर आलोचना का सामना कर रहे सिंह ने पुलिस आयुक्त पद से 17 मार्च को अपने तबादले के तीन दिन बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा था और आरोप लगाया था कि देशमुख ने पुलिस अधिकारी सचिन वाजे को बार और रेस्तराओं से हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली करने को कहा था।

बंबई उच्च न्यायालय द्वारा आरोपों की सीबीआई जांच का आदेश दिए जाने के तत्काल बाद देशमुख ने राज्य के गृह मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

सिंह ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा था कि उन्हें वसूली की गृह मंत्री की मांग के बारे में सहायक पुलिस आयुक्त संजय पाटिल ने सूचना दी थी।

उन्होंने पाटिल से हुई अपनी ‘चैट’ का भी उल्लेख किया था।

अधिकारी ने जानकारी दी, ‘‘पाटिल ने अपने बयान में कहा कि वह ठाणे में एक हुक्का पार्लर में छापे के बारे में जानकारी देने के लिए अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ देशमुख से मिले थे। लेकिन इस मुलाकात से पहले या बाद में वह तत्कालीन गृह मंत्री से कभी नहीं मिले।’’

उन्होंने बताया कि पुलिस उपायुक्त भुजबल ने अपने बयान में कहा कि वह अपराधों और अन्य मुद्दों पर वरिष्ठों को जानकारी देने के लिए चार मार्च को देशमुख के आधिकारिक आवास पर एक नोडल अधिकारी के रूप में एक बैठक में शामिल हुए थे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)