देश की खबरें | पैराग्वे को कोविड-19 रोधी टीके की खेप भेजने में तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं : विदेश मंत्रालय

नयी दिल्ली, 8 अप्रैल विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि पैराग्वे के अनुरोध पर उसे कोविड-19 रोधी टीके की खेप भेजी गई है और इसमें किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में यह जानकारी दी ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से उन खबरों के बारे में पूछा गया था जिसमें यह कहा गया है कि ताइवान ने पैराग्वे को कोरोना वायरस रोधी टीके की आपूर्ति के लिये भारत से बात की थी ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ जैसा आपको पता है कि भारत पैराग्वे में अपना दूतावास खोल रहा है । पैराग्वे के विदेश मंत्री और भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के बीच टेलीफोन पर बातचीत के दौरान पैराग्वे पक्ष ने टीके की आपूर्ति का आग्रह किया था । ’’

उन्होंने बताया कि इस आग्रह पर विदेश मंत्री ने सकारात्मक प्रतिक्रिया व्यक्त की और इसके बाद कोविड-19 रोधी टीके की खेप भेजी गई ।

बागची ने कहा, ‘‘ मैं इस बात की पुष्टि करना चाहता हूं कि इसमें कोई तीसरा पक्ष शामिल नहीं था । ’’

गौरतलब है कि मीडिया में ऐसी खबरें आई हैं कि पहले चीन से पैराग्वे को टीके मिलने थे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया था ।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)