जरुरी जानकारी | एनएचएआई ने चालू वित्त वर्ष में बजार में चढ़ाने को 33 राजमार्ग खंडों की पहचान की

नयी दिल्ली, 18 अप्रैल सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) चालू वित्त वर्ष के दौरान टोल ऑपरेट ट्रांसफर (टीओटी) और बुनियादी ढांचा निवेश ट्रस्ट (इनविट) मोड के माध्यम से मुद्रीकरण यानी बाजार में चढ़ाने के लिए 2,741 किलोमीटर तक फैले 33 राजमार्ग खंडों को चिह्नित किया है।

चिह्नित किए गए खंडों में उत्तर प्रदेश से लखनऊ-अलीगढ़, कानपुर-अयोध्या-गोरखपुर और बरेली-सीतापुर, राजस्थान में गुरुग्राम-कोटपूतली-जयपुर बाईपास और जयपुर-किशनगढ़, ओडिशा में पाणिकोइली-रिमूली, तमिलनाडु में चेन्नई बाईपास और बिहार में मुजफ्फरपुर-दरभंगा-पूर्णिया राजमार्ग हैं।

एजेंसी ने बयान में कहा, “संपत्ति का मुद्रीकरण टीओटी/इनविट माध्यम से किया जाएगा।”

बयान के अनुसार, “एनएचएआई के पास उपरोक्त सूची और मुद्रीकरण के तरीकों की समीक्षा करने और उन्हें बदलने का विवेकाधिकार होगा।”

एनएचएआई ने 2023-24 में परिसंपत्ति मुद्रीकरण के विभिन्न माध्यमों से 28,868 करोड़ रुपये के लक्ष्य के मुकाबले 40,314 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

एनएचएआई का परिसंपत्ति मुद्रीकरण अब तक एक लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है।

सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने संपत्ति मुद्रीकरण के विभिन्न तरीकों के माध्यम से 2022-23 में 32,855 करोड़ रुपये जुटाए थे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)