देश की खबरें | राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने पश्चिम बंगाल से संदेशखालि मामले पर की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी

नयी दिल्ली, 13 फरवरी राष्ट्रीय अनुसूचित जाति (एससी) आयोग ने पश्चिम बंगाल के अशांत संदेशखालि इलाके में हुई घटनाओं का स्वत: संज्ञान लिया है और राज्य सरकार से इस मामले में की गई कार्रवाई की रिपोर्ट तीन दिन के भीतर सौंपने को कहा है।

पैनल ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, महानिदेशक और पुलिस महानिरीक्षक और उत्तर 24 परगना के जिला मजिस्ट्रेट को संबोधित एक पत्र में पिछले कुछ दिनों में संदेशखालि की स्थिति संबंधी एक समाचार रिपोर्ट का हवाला दिया।

आयोग ने मंगलवार को सार्वजनिक किए गए एक पत्र में कहा, ‘‘आयोग ने भारत के संविधान के अनुच्छेद 338 के तहत उसे प्रदत्त शक्तियों के तहत मामले की जांच तथा पूछताछ करने का निर्णय लिया है।’’

इसमें कहा गया है कि इस मामले में की गई कार्रवाई की रिपोर्ट इस नोटिस के मिलने के तीन दिन के भीतर सौंपी जाए।

संदेशखालि में महिलाएं तृणमूल कांग्रेस के नेता शाहजहां शेख और उनके सहयोगियों द्वारा किए गए कथित अत्याचारों को लेकर पिछले कुछ दिनों से आंदोलन कर रही हैं।

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि शेख और उनके ‘‘गिरोह’’ ने क्षेत्र में महिलाओं का यौन उत्पीड़न किया तथा जमीन के बड़े हिस्से पर बलपूर्वक कब्जा कर लिया है।

शेख पिछले महीने राशन घोटाले की जांच के सिलसिले में संदेशखालि में उनके घर पर छापा मारने गई प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम पर भीड़ द्वारा किए गए हमले के बाद से फरार हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)