देश की खबरें | सिख चरमपंथी की हत्या की साजिश के आरोपी से भारतीय अधिकारी को जोड़ा जाना चिंता का विषय:विदेश मंत्रालय

नयी दिल्ली, 30 नवंबर भारत ने अमेरिकी धरती पर एक सिख अलगाववादी की हत्या की साजिश रचने के आरोपी व्यक्ति के साथ एक भारतीय अधिकारी को अमेरिका द्वारा जोड़े जाने को बृहस्पतिवार को "चिंता का विषय" बताया।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि आरोपों की जांच के लिए गठित समिति के निष्कर्षों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

सिख अलगाववादी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की नाकाम साजिश से जुड़े आरोपों की जांच के लिए भारत ने एक जांच दल गठित किया है। ऐसा माना जाता है कि पन्नू के पास अमेरिका और कनाडा की नागरिकता है।

बुधवार को अमेरिका में संघीय अभियोजकों ने आरोप लगाया कि निखिल गुप्ता नाम के व्यक्ति ने एक भारतीय सरकारी कर्मचारी के साथ मिलकर पन्नू की हत्या की साजिश रची थी जिसे नाकाम कर दिया गया था।

अमेरिकी संघीय अभियोजकों ने बुधवार को मैनहट्टन की एक अदालत को बताया कि चेक गणराज्य के अधिकारियों ने गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया है और वह फिलहाल अमेरिका प्रत्यर्पित किये जाने का इंतजार कर रहा है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, ‘‘अमेरिका की एक अदालत में एक व्यक्ति के खिलाफ दायर मामला चिंता का विषय है जिसमें कथित रूप से उसका संबंध एक भारतीय अधिकारी से बताया गया है।’’

बागची ने कहा कि यह मामला खालिस्तानी अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के संबंध में कनाडा के आरोपों पर भारत के रुख को नहीं बदलता है।

नाकाम साजिश के संबंध में वाशिंगटन की ओर से यह आरोप ऐसे समय लगाया गया है जब कुछ सप्ताह पहले ही कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने आरोप लगाया था कि जून महीने में वेंकूवर उपनगर में खालिस्तानी अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंटों की संलिप्तता थी।

भारत ने ट्रूडो के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था।

बागची ने अमेरिका के आरोपों पर कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संगठित अपराध, तस्करों, अवैध हथियार रखने वालों और अतिवादियों के बीच सांठगांठ कानून प्रवर्तन एजेंसियों और संस्थानों के लिए गंभीर मुद्दा है और इसलिए एक उच्चस्तरीय जांच समिति गठित की गई है और हम जाहिर तौर पर इसके परिणामों के आधार पर कार्रवाई करेंगे।’’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिकी पक्ष ने संगठित अपराधियों, अवैध हथियार रखने वालों और आतंकवादियों के बीच सांठगांठ के संबंध में कुछ जानकारी साझा की है। उन्होंने कहा कि भारत इस तरह की जानकारी को गंभीरता से लेता है क्योंकि यह हमारे राष्ट्रीय हितों पर भी अतिक्रमण है और संबंधित विभाग इस मुद्दे को देख रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘जैसा कि हमने पहले भी सूचित किया था, द्विपक्षीय सुरक्षा सहयोग पर अमेरिका के साथ बातचीत के दौरान अमेरिकी पक्ष ने संगठित अपराधियों, हथियार रखने वालों, आतंकवादियों और अन्य लोगों के बीच सांठगांठ से संबंधित कुछ जानकारी साझा की थी।’’ उन्होंने बुधवार को भी इसी तरह की टिप्पणी की थी।

उन्होंने कहा, "हम ऐसी जानकारी को गंभीरता से लेते हैं और मामले के सभी प्रासंगिक पहलुओं पर गौर करने के लिए एक उच्च स्तरीय जांच समिति का गठन किया गया है और जांच समिति के निष्कर्षों के आधार पर आवश्यक आगे की कार्रवाई की जाएगी।’’

बागची ने कहा, ‘‘हम इस तरह के सुरक्षा मामलों पर और कोई जानकारी साझा नहीं कर सकते।’’

तथाकथित ‘सिख्स फॉर जस्टिस’ संगठन का नेता पन्नू आतंकवाद के अनेक आरोपों में भारतीय जांच एजेंसियों के लिए वांछित है।

‘द फाइनेंशियल टाइम्स’ अखबार ने अज्ञात सूत्रों के हवाले से पिछले सप्ताह पहली बार यह खबर प्रकाशित की थी कि अमेरिकी अधिकारियों ने पन्नू की हत्या की साजिश को नाकाम कर दिया था और इस साजिश में भारत सरकार के शामिल होने की आशंकाओं को लेकर उसे चेतावनी दी थी।

‘द वाशिंगटन पोस्ट’ अखबार ने बुधवार को अपनी खबर में कहा कि बाइडन प्रशासन साजिश का पता चलने के बाद इतना चिंतित था कि उसने सीआईए के निदेशक विलियम जे बर्न्स और राष्ट्रीय खुफिया निदेशक एवरिल हेन्स को क्रमश: अगस्त और अक्टूबर में जांच की मांग के लिए भारत भेजा था।

कनाडा के आरोपों पर बागची ने कहा कि ओटावा के साथ मुख्य मुद्दा उस देश में भारत विरोधी तत्वों की गतिविधियों का है।

उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक कनाडा की बात है, हमने कहा है कि उन्होंने सतत रूप से भारत विरोधी चरमपंथियों को और हिंसा को जगह दी है और मुख्य मुद्दा दरअसल यही है। कनाडा में हमारे राजनयिक प्रतिनिधियों ने इसके दंश को झेला है।’’

बागची ने कहा, ‘‘हम कनाडा की सरकार से अपेक्षा करते हैं कि वह राजनयिक संबंधों पर विएना समझौते के तहत दायित्वों का पालन करे। हमने अपने आंतरिक मामलों में कनाडाई राजनयिकों के हस्तक्षेप को भी देखा है। जाहिर तौर पर यह अस्वीकार्य है।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)