जरुरी जानकारी | कर्नाटक सरकार ने 10,000 करोड़ रुपये से अधिक के पुराने कर्ज नहीं वसूलेः कैग

बेंगलुरु, 13 फरवरी नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने कहा है कि कर्नाटक सरकार ने विभिन्न संस्थाओं को दिए गए 10,000 करोड़ रुपये से अधिक के पुराने कर्जों की वसूली नहीं की है।

वित्त लेखा 2022-23 पर आई कैग की रिपोर्ट कहती है कि पुराने कर्जों में से कुछ 1977 से ही लंबित पड़े हुए हैं। इनमें से कई कर्ज राज्य सरकार के ही विभागों एवं उपक्रमों से संबंधित हैं।

कैग की यह रिपोर्ट मंगलवार को कर्नाटक विधानसभा में पेश की गई।

कैग ने कहा, "राज्य सरकार के आठ विभागों से जुड़े 10,389.78 करोड़ रुपये के पुराने ऋणों के संबंध में मूलधन की भी वसूली पिछले कई वर्षों में नहीं हुई है। इनमें वर्ष 1977 से लंबित ऋण भी शामिल हैं।"

इस रिपोर्ट के मुताबिक, 21 कर्जदार संस्थाओं पर 15,856 करोड़ रुपये का बकाया है, जिसमें 9,380 करोड़ रुपये का मूलधन भी शामिल है।

सबसे पुराना बकाया कर्ज 1977 का है जो बेंगलुरु जल आपूर्ति एवं सीवेज बोर्ड और कर्नाटक राज्य बीज निगम लिमिटेड को दिया गया था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)