विदेश की खबरें | जॉनसन और बाइडन पहली बार कॉर्नवाल में करेंगे मुलाकात

लंदन, 10 जून ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन बृहस्पतिवार को कॉर्नवाल में पहली बार मुलाकात करेंगे। यह मुलाकात जी-7 नेताओं के शिखर सम्मेलन से पहले हो रही है, जिसकी मेजबानी ब्रिटेन कर रहा है।

‘डाउनिंग स्ट्रीट’ ने बताया कि दोनों नेताओं के बीच ‘अटलांटिक चार्टर’ को लेकर सहमति बन सकती है, जो युद्ध के बाद की दुनिया के लिए अपने लक्ष्यों को निर्धारित करने के लिए प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल और राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रूजवेल्ट द्वारा 1941 में दिए गए ऐतिहासिक संयुक्त बयान पर आधारित है।

मूल ‘अटलांटिक चार्टर’ में ऐतिहासिक समझौते शामिल थे, जिनसे संयुक्त राष्ट्र और उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के गठन का मार्गप्रशस्त हुआ था। वहीं, 2021 ‘अटलांटिक चार्टर’ को उन मूल्यों को प्रतिध्वनित करने और नई साझेदारियों को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें अमेरिका और ब्रिटेन के बीच विनिमय के लिए एक नया ‘ट्रैवल टास्कफोर्स’ शामिल है।

जॉनसन ने कहा, ‘‘ चर्चिल और रूजवेल्ट को विनाशकारी युद्ध के बाद दुनिया को कैसे पटरी पर लाया जाए, इस सवाल का सामना करना पड़ा था, वहीं आज हमें बुहत ही अलग लेकिन कम डरावनी चुनौती से निपटना होगा... वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से कैसे बेहतर कल का निर्माण करें ।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ और जैसा हम करते आए हैं, ब्रिटेन और अमेरिका सबसे करीबी और सबसे बड़े सहयोगी हैं, जो विश्व के स्थिर और समृद्ध भविष्य के लिए महत्वपूर्ण है। राष्ट्रपति बाइडन और मैं बृहस्पतिवार को जो समझौते करेंगे, वे हमारे साझा मूल्यों और दृष्टिकोण पर आधारित होंगे और एक स्थायी वैश्विक सुधार की नींव रखेंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ 80 साल पहले अमेरिका के राष्ट्रपति और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बेहतर भविष्य का वादा करते हुए एकसाथ आए थे। आज हम भी वही करेंगे।’’

कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के प्रकोप के बाद पहली बार जी-7 के नेता कॉर्नवाल में शुक्रवार को बैठक करेंगे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)