देश की खबरें | जमीयत उलेमा राजस्थान ने स्कूलों में सामूहिक सूर्य नमस्कार के राज्य सरकार के आदेश की निंदा की

जयपुर, 12 फरवरी जमीयत उलेमा राजस्थान ने 15 फरवरी को स्कूलों में सामूहिक सूर्य नमस्कार के राज्य सरकार के आदेश की निंदा की है।

एक बयान के अनुसार जमीयत उलेमा राजस्थान की राज्य कार्यसमिति की बैठक में इस संबंध में एक प्रस्ताव पेश किया गया, जिसमें इसे धार्मिक मामलों में अनुचित हस्तक्षेप और संविधान में निहित धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन माना गया।

जमीयत उलमा राजस्थान के महासचिव मौलाना अब्दुल वाहिद खत्री ने प्रस्ताव पेश किया।

बयान के अनुसार ‘‘अपनाया गया प्रस्ताव मुस्लिम समुदाय से 15 फरवरी, 2024 को सूर्य सप्तमी पर अपने बच्चों को स्कूल भेजने से परहेज करने और अनिवार्य कार्यक्रम का बहिष्कार करने का आह्वान करता है।’’

इसके साथ ही, जमीयत उलेमा राजस्थान सहित विभिन्न मुस्लिम संगठनों ने राजस्थान उच्च न्यायालय में एक संयुक्त याचिका दायर की है जिसमें 15 फरवरी के कार्यक्रम को और स्कूलों में सूर्य नमस्कार को अनिवार्य करने के निर्णय को रद्द करने की मांग की गई है।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील जहूर नकवी अदालत में मौजूद थे। अदालत में इस मामले की सुनवाई 14 फरवरी को होगी ।

जयपुर में हुई बैठक में प्रदेश भर के जमीयत उलेमा के नेता शामिल हुए। प्रस्ताव में स्पष्ट किया गया कि जहां हिंदू समाज में सूर्य को देवता के रूप में पूजा जाता है, वहीं मुसलमान अल्लाह के अलावा किसी और की पूजा करना वर्जित मानते हैं। इसलिए, मुस्लिम उम्माह इस तरह की प्रथाओं को लागू करने को सख्ती से खारिज करता है।

बयान में कहा गया कि ‘‘जमीयत उलेमा इस बात पर जोर देती है कि एक लोकतांत्रिक राष्ट्र में, योग और शारीरिक अभ्यास के बहाने अन्य धर्मों के लोगों, विशेषकर बच्चों पर एक विशेष धर्म की मान्यताओं को लागू करना संवैधानिक सिद्धांतों के खिलाफ है। इसे धार्मिक स्वतंत्रता और बाल अधिकारों का घोर उल्लंघन भी माना जाता है।’’

संगठन ने राज्य सरकार से अनावश्यक विवादों से बचने के लिए योग और अभ्यास से संबंधित मुद्दों पर चर्चा में मुस्लिम समुदाय को शामिल करने की भी अपील की।

इसने सरकार से देश के लोकतांत्रिक ढांचे को बनाए रखने के लिए विवादास्पद आदेश को तुरंत वापस लेने का आग्रह किया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)