जरुरी जानकारी | भारत ने यूएई के साथ द्विपक्षीय निवेश संधि पर हस्ताक्षर किए

अबू धाबी, 13 फरवरी भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने दोनों देशों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए मंगलवार को द्विपक्षीय निवेश संधि (बीआईटी) पर हस्ताक्षर किए।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और यूएई के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान की मौजूदगी में बीआईटी पर हस्ताक्षर किए गए।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि भारत ने संयुक्त अरब अमीरात के साथ द्विपक्षीय निवेश संधि और व्यापक आर्थिक साझेदारी समझौते (सीईपीए) पर हस्ताक्षर किए हैं।

इस महीने की शुरुआत में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यूएई के साथ बीआईटी पर हस्ताक्षर करने और उसकी पुष्टि के लिए अपनी मंजूरी दी थी।

बीआईटी का उद्देश्य निवेशकों, खासकर बड़े निवेशकों का भरोसा बढ़ाना है जिससे विदेशी निवेश और विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (ओडीआई) के अवसर बढ़ेंगे। इसका रोजगार सृजन पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ने की संभावना है।

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में पहले कहा गया था कि भारत में निवेश बढ़ाने के अलावा बीआईटी घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहित करने, आयात निर्भरता कम करने और निर्यात बढ़ाकर आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य साकार करने में भी मदद कर सकता है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)