देश की खबरें | भारत को विदेशों से और चिकित्सा आपूर्ति प्राप्त हुई

नयी दिल्ली, चार मई कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहे भारत को अमेरिका, आयरलैंड, संयुक्त अरब अमीरात और कुवैत समेत विभिन्न देशों की तरफ से मंगलवार को आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति प्राप्त हुई।

संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच कई राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के अस्पतालों को ऑक्सीजन की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है।

भारत को भेजी गई सहायता के तहत गुजरात की मुंद्रा बंदरगाह पर तरल मेडिकल ऑक्सीजन के सात टैंकर पहुंचे, जिनमें प्रत्येक में 20 मीट्रिक टन ऑक्सीजन है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्विटर पर कहा, '' हमारी व्यापक सामरिक साझेदारी को और मजूबती देते हुए मुंद्रा बंदरगाह पर मेडिकल ऑक्सीजन वाले सात टैंकर पहुंचे। प्रत्येक में 20 मीट्रिक टन ऑक्सीजन है। भारत को तरल मेडिकल ऑक्सीजन की यह अपनी तरह की पहली खेप है। संयुक्त अरब अमीरात द्वारा उपलब्ध कराई गई सहायता के लिए आभार। इससे ऑक्सीजन की उपलब्धता में इजाफा होगा।''

वहीं, अमेरिका की तरफ से भारत को उपलब्ध कराई गई चिकित्सा सहायता की पांचवीं खेप विशेष विमान के जरिए दिल्ली लाई गई। इस खेप में 545 ऑक्सीजन सांद्रक भी शामिल हैं।

आयरलैंड की तरफ से भेजी गई चिकित्सा आपूर्ति की दूसरी खेप में दो ऑक्सीजन उत्पादक, 548 ऑक्सीजन सांद्रक, 365 वेंटिलेटर समेत अन्य चिकित्सा उपकरण शामिल हैं।

बागची ने सहायता के लिए आयरलैंड का आभार जताया।

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन से 450 ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर भारतीय वायु सेना का विमान चेन्नई पहुंचा है।

भारत को कुवैत की तरफ से प्राप्त चिकित्सा आपूर्ति में 282 ऑक्सीजन सिलेंडर, 60 ऑक्सीजन सांद्रक और वेंटिलेटर समेत अन्य उपकरण शामिल हैं।

दुनियाभर के कम से कम 40 देशों ने भारत को चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराने की घोषणा की है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)