ताजा खबरें | किसान नेता एमएसपी पर बोनस को लेकर आप सरकार के खिलाफ विरोध क्यों नहीं करते : जाखड़

चंडीगढ़, 15 मई भाजपा की पंजाब इकाई के प्रमुख सुनील जाखड़ ने बुधवार को किसान नेताओं पर केवल केंद्र के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने और एमएसपी पर बोनस व क्षतिग्रस्त फसलों के मुआवजे का भुगतान न करने के लिए राज्य की आम आदमी पार्टी सरकार को नहीं घेरने का आरोप लगाया।

जाखड़ की यह प्रतिक्रिया ऐसे समय आई है जब उनकी पार्टी के उम्मीदवारों को राज्य में लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान किसानों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

विरोध-प्रदर्शन के तहत किसान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं से सवाल पूछ रहे हैं और केंद्र सरकार द्वारा उनकी मांगें नहीं मानने के लिए भाजपा उम्मीदवारों को काले झंडे दिखा रहे हैं।

जाखड़ ने कहा कि पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने पिछले साल बाढ़ के दौरान फसल के नुकसान के लिए 20,000 रुपये प्रति एकड़ मुआवजा देने का वादा किया था, लेकिन किसानों को केवल 6,800 रुपये प्रति एकड़ मिले, जो केंद्र ने आपदा राहत कोष से आवंटित किया था।

भाजपा नेता ने किसान नेताओं से पूछा कि वे 20,000 रुपये के मुआवजे पर चुप क्यों हैं और मुख्यमंत्री भगवंत मान के खिलाफ कोई विरोध प्रदर्शन क्यों नहीं किया जा रहा है।

जाखड़ ने यहां मीडिया को संबोधित करते हुए केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार द्वारा शुरू किए गए कई किसान हितैषी उपायों को रेखांकित किया।

उन्होंने केंद्र द्वारा राज्य में किसानों के लिए भुगतान में भारी बढ़ोतरी का हवाला देते हुए कहा कि भुगतान में वृद्धि किसानों की आय दोगुनी करने की भाजपा की प्रतिबद्धता के अनुरूप है।

भाजपा नेता ने दोहराया कि आंदोलनकारी किसानों के मुद्दों का समाधान केंद्र की अगली सरकार ही कर सकती है।

उन्होंने कहा, ‘‘वर्ष 2014 में किसानों को धान और गेहूं दोनों फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के तहत 32,211 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था। केंद्र में भाजपा के एक दशक के शासन के बाद, किसानों को दोनों फसलों के लिए 70,385 करोड़ रुपये मिले, जो दोगुने से भी अधिक है।’’

जाखड़ ने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार के 10 वर्षों में कृषि का बजट 21,900 करोड़ रुपये से बढ़कर 2024 में 1.25 लाख करोड़ रुपये हो गया है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)