देश की खबरें | दिल्ली पुलिस ने मालीवाल से ‘मारपीट’ के मामले में केजरीवाल के सहयोगी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की

नयी दिल्ली, 16 मई दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर आम आदमी पार्टी (आप) की राज्यसभा सदस्य स्वाति मालीवाल से कथित रूप से मारपीट के संबंध में बृहस्पतिवार को एक प्राथमिकी दर्ज की और ‘आप’ संयोजक के निजी सहायक बिभव कुमार को आरोपी बनाया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मालीवाल पर कथित हमले को लेकर चुप्पी साधने के लिए अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा।

अधिकारियों ने बताया कि केजरीवाल के निजी सहायक बिभव कुमार को मामले में आरोपी बनाया गया है।

राष्ट्रीय महिला आयोग ने मामले को लेकर कुमार को शुक्रवार को तलब किया है।

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त पी.एस. कुशवाह के नेतृत्व में दो सदस्यीय टीम द्वारा मालीवाल का बयान दर्ज करने के बाद प्राथमिकी दर्ज की गई। टीम ने मध्य दिल्ली स्थित मालीवाल के आवास पर उनका बयान दर्ज किया। टीम चार घंटे से अधिक समय तक मालीवाल के आवास पर रही।

अधिकारियों ने बताया कि यह प्राथमिकी महिलाओं के खिलाफ हिंसा के अपराध से संबंधित भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत दर्ज की गई।

मालीवाल ने सोमवार को सिविल लाइंस पुलिस थाने पहुंचकर आरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल के निजी स्टाफ के एक सदस्य ने मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास पर उनके साथ ‘‘मारपीट’’ की।

मालीवाल ने अपने साथ हुई कथित मारपीट के मामले को लेकर बृहस्पतिवार को चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि उन्होंने दिल्ली पुलिस के समक्ष अपना बयान दर्ज करा दिया है और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को इस घटना पर राजनीति नहीं करनी चाहिए।

मालीवाल ने ‘एक्स’ पर कहा, ‘‘मेरे साथ जो हुआ, वह बहुत बुरा था। मेरे साथ हुई घटना पर मैंने पुलिस को अपना बयान दिया है। मुझे आशा है कि उचित कार्रवाई होगी। पिछले दिन मेरे लिए बहुत कठिन रहे हैं। जिन लोगों ने प्रार्थना की, उनका धन्यवाद करती हूं। जिन लोगों ने मेरा चरित्र हनन करने की कोशिश की और कहा कि मैं दूसरे पक्ष के कहने पर ऐसा कर रही हूं, भगवान उन्हें भी खुश रखे।’’

उन्होंने कहा कि देश में अहम चुनाव चल रहा है और स्वाति मालीवाल जरूरी नहीं है, देश के मुद्दे जरूरी हैं।

मालीवाल ने कहा, ‘‘भाजपा के लोगों से विशेष आग्रह है कि इस घटना पर राजनीति न करें।’’

सूत्रों के मुताबिक, मालीवाल ने अपनी पुलिस शिकायत में कुमार को ‘‘मुख्य आरोपी’’ बताया है, जिन्होंने कथित तौर पर मालीवाल पर तब हमला किया था जब वह सोमवार को केजरीवाल से मिलने गई थीं।

लखनऊ में संवाददाता सम्मेलन के दौरान केजरीवाल द्वारा मालीवाल मामले पर टिप्पणी करने से इनकार करने के बाद भाजपा ने ‘आप’ संयोजक केजरीवाल पर निशाना साधा।

केजरीवाल बृहस्पतिवार को समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के साथ संवाददाता सम्मेलन के लिए लखनऊ पहुंचे थे। इस दौरान उनसे जब इस घटना के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। ‘आप’ सांसद संजय सिंह ने जवाब दिया कि उनकी पार्टी ने पहले ही इस मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है।

जब केजरीवाल सवाल टाल रहे थे तो अखिलेश यादव ने माइक ले लिया और कहा, ‘‘इससे भी महत्वपूर्ण बातें हैं।’’

इसके बाद उन्होंने कागज का एक टुकड़ा दिखाया और कहा, ‘‘भाजपा के लोग किसी के साथ नहीं हैं, यह एक ‘गिरोह’ है जो झूठे मामले दर्ज कराता है।’’

इस बीच, भाजपा ने मालीवाल पर कथित हमले को लेकर चुप्पी साधने के लिए अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री एक ‘गुंडे’ की तरह व्यवहार कर रहे हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया ने दावा किया कि केजरीवाल इस मामले में ‘मुख्य अपराधी’ हैं क्योंकि शिकायत के मुताबिक उनके सहयोगी बिभव कुमार ने मुख्यमंत्री आवास पर मालीवाल पर हमला किया था। भाटिया ने इसके लिए मालीवाल की ओर से दिल्ली पुलिस को फोन करके दर्ज की गई शिकायत का हवाला दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘उनकी (केजरीवाल) चुप्पी बहुत कुछ कहती है। स्पष्ट हो गया है कि केजरीवाल... जो जमानत पर बाहर हैं....मुख्यमंत्री कम और ‘गुंडे’ ज्यादा हो गए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘एक महिला को पिटवाना और वह भी अपने पीए को निर्देश देकर...यह कोई छोटी-मोटी घटना नहीं है। इसकी तह तक जाना होगा। पुलिस की विवेचना होनी चाहिए। दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।’’

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने कहा कि मालीवाल के साथ कथित तौर पर मारपीट के मामले में शामिल व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी राष्ट्रीय राजधानी में ‘इंडिया’ गठबंधन के तहत मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं।

रागिनी नायक ने कहा कि इस मामले में कांग्रेस पार्टी का रुख बिल्कुल स्पष्ट है।

उन्होंने कहा, ‘‘अगर किसी महिला के खिलाफ कोई अपराध होता है, तो अपराध में जो भी शामिल है, चाहे वह किसी राजनीतिक दल से हो या नहीं, उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। (आप सांसद) संजय सिंह ने भी यही बात कही और कांग्रेस पार्टी ने भी यही बात कही है।’’

उन्होंने यह भी कहा कि मालीवाल खुद अपने कानूनी अधिकारों को समझती हैं क्योंकि वह दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष रह चुकी हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)