विदेश की खबरें | ब्रिटेन के चमगादड़ों में कोरोना वायरस - ख़तरा अभी न्यूनतम, पर वायरस के बारे में और जानने की ज़रूरत
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

लंदन, 28 जून (द कन्वरसेशन) सबसे उभरती हुई संक्रामक बीमारियाँ जूनोटिक रोगजनकों के कारण होती हैं। यह ऐसे वायरस और बैक्टीरिया होते हैं, जो जंगली और घरेलू जानवरों में फैलते हैं लेकिन मनुष्यों को भी संक्रमित करने में सक्षम होते हैं।

ज़ूनोटिक रोगजनकों के कारण होने वाली बीमारियों के उदाहरणों में इबोला, मध्य पूर्वी श्वसन सिंड्रोम (एमईआरएस) और बर्ड फ्लू शामिल हैं।

चमगादड़ों की कुछ प्रजातियाँ विभिन्न प्रकार के वायरस के भंडार के रूप में कार्य करती हैं जो मनुष्यों में प्रवेश कर सकते हैं - उदाहरण के लिए, सार्स-कोव-2 (वह वायरस जो कोविड का कारण बनता है) के निकटतम रिश्तेदार राइनोलोफस जीनस के चमगादड़ों में प्रसारित होते हैं।

हालाँकि, हमें दुनिया के अधिकांश हिस्सों में चमगादड़ों की आबादी में फैलने वाले वायरस की विविधता की ज्यादा समझ नहीं है। हमें इस बात का भी कुछ खास अंदाज़ा नहीं है कि भविष्य में ऐसे कितने वायरस हैं जो चमगादड़ों से मनुष्यों में आ सकते हैं।

इसने हमें इस नए शोध की प्रेरणा दी, जिसमें हमने यूके के चमगादड़ों में घूमने वाले आरएनए वायरस की खोज की। आरएनए वायरस, जिनमें से सार्स-कोव-2 एक है, आमतौर पर सबसे चिंताजनक ज़ूनोटिक ख़तरा माना जाता है।

हमने खोजे गए कुछ वायरस की जूनोटिक क्षमता का भी मूल्यांकन किया। आश्वस्त करने वाली बात यह है कि हमने वर्तमान में मनुष्यों को संक्रमित करने में सक्षम किसी भी वायरस की पहचान नहीं की है - लेकिन ऐसा करने के लिए एक वायरस को केवल कुछ उत्परिवर्तन की आवश्यकता हो सकती है। भविष्य में ज़ूनोटिक खतरों से हमारी रक्षा के लिए चमगादड़ों और अन्य वन्यजीवों की लगातार निगरानी करना महत्वपूर्ण है।

यूके के चमगादड़ों का अध्ययन

दो वर्षों के दौरान, हमने यूके में प्रजनन करने वाली चमगादड़ों की 16 प्रजातियों से मल के नमूने एकत्र किए। ये अधिकतर घायल या ज़मीन पर गिरे हुए चमगादड़ों में से थे जिन्हें बैट कंजर्वेशन ट्रस्ट द्वारा पुनर्वासित किया गया था।

इस रणनीति से हमारे द्वारा नमूने लेने के दौरान किसी भी चमगादड़ को चोट या परेशानी नहीं हुई और चमगादड़ों और मनुष्यों के बीच संपर्क दर में वृद्धि नहीं हुई।

हमने आरएनए अनुक्रमण के लिए 48 मल नमूनों का चयन किया। परिणामी डेटा ने हमें वायरस की एक विस्तृत श्रृंखला की पहचान करने में सहायता की, जिनमें से अधिकांश चमगादड़ के मल में पाए जाने वाले कीड़ों को संक्रमित करते हैं। लेकिन हमने विभिन्न प्रकार के वायरस का भी पता लगाया है जो स्तनधारियों को संक्रमित करते हैं, जिनमें कई कोरोना वायरस भी शामिल हैं।

विश्लेषण किए गए मल के नमूनों से, हम दो नई प्रजातियों सहित नौ पूर्ण कोरोनोवायरस जीनोम को एक साथ जोड़ सकते हैं - जिनमें से एक एमईआरएस का कारण बनने वाले कोरोनोवायरस से निकटता से संबंधित है।

ब्रिटिश राइनोलोफस चमगादड़ों की दो प्रजातियों में हमें चार सार्बेकोवायरस भी मिले, जो सार्स-कोव-2 के समान समूह के वायरस हैं।

इसके बाद हमने परीक्षण किया कि क्या हमारे द्वारा तलाश किए गए कोरोना वायरस इंसानों को संक्रमित कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए, हमने स्पाइक प्रोटीन के कृत्रिम अनुक्रमों को संश्लेषित किया - यह वायरस की सतह पर मौजूद प्रोटीन होते हैं, जो कोशिका में प्रवेश को सक्षम करने के लिए मेजबान कोशिकाओं से जुड़ते हैं - और उन्हें ‘‘स्यूडोवायरस’’ में एकीकृत किया।

ये संरचनाएं पूरी तरह से सुरक्षित हैं क्योंकि वे दोहराई नहीं जा सकती हैं, लेकिन फिर भी हमें वायरस की विभिन्न कोशिकाओं से जुड़ने और प्रवेश करने की क्षमता के बारे में जानकारी देती हैं।

हमने जितने भी कोरोना वायरस का परीक्षण किया, उनमें से एक सार्बेकोवायरस एसीई2 रिसेप्टर को बांधकर मानव कोशिकाओं में प्रवेश करने में सक्षम था, रिसेप्टर सार्स-कोव-2 मानव कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए उपयोग करता है।

लेकिन यह केवल एसीई2 रिसेप्टर्स की अधिकता को व्यक्त करने के लिए प्रयोगशाला में कृत्रिम रूप से हेरफेर की गई मानव कोशिकाओं में हुआ, मानव शरीर में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले एसीई 2 स्तरों पर नहीं।

इसका मतलब यह है कि ब्रिटिश चमगादड़ों में पाया गया कोई भी कोरोना वायरस वर्तमान में मनुष्यों को संक्रमित नहीं कर सकता है, हालांकि सार्बेकोवायरस में से एक भविष्य में ऐसा करने की क्षमता हासिल कर सकता है। यह सार्बेकोवायरस संभवतः उस वायरस से केवल कुछ उत्परिवर्तन दूर है जो लोगों को संक्रमित करने के लिए मानव एसीई 2 रिसेप्टर्स को प्रभावी ढंग से बांध सकता है।

हमारा अध्ययन संभवतः ब्रिटेन के चमगादड़ों में प्रसारित होने वाले कोरोना वायरस की वास्तविक विविधता को कम करके आंकता है क्योंकि हमने केवल 48 नमूनों का अनुक्रम किया है और सभी चमगादड़ हर समय सभी वायरस से संक्रमित नहीं होते हैं। इसके अलावा, हम केवल चमगादड़ों की आंत में फैले वायरस को ही पुनर्प्राप्त कर सके, क्योंकि हमने मल का विश्लेषण किया था। उदाहरण के लिए, चमगादड़ अन्य कोरोनोवायरस प्रजातियों को अपने फेफड़ों में ले जा सकते हैं, जो एरोसोल के माध्यम से फैल सकते हैं।

बहरहाल, हमारा शोध वन्यजीवों में उभरते जूनोटिक रोगजनकों की सुरक्षित, गैर-आक्रामक निगरानी के लिए एक खाका प्रदान करता है।

ज़ूनोटिक वायरस के भंडार के रूप में चमगादड़

यह अनुमान लगाया गया है कि चमगादड़ अपनी उल्लेखनीय दीर्घायु (जंगल में लगभग 40 वर्षों तक जीवित रह सकते हैं), उड़ान के लिए जरूरी उच्च चयापचय दर और असामान्य प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण अन्य स्तनधारियों की तुलना में अधिक रोगजनकों को आश्रय दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, वे वायरल संक्रमण से लड़ने के बजाय सहन करने की प्रवृत्ति रखते हैं)।

हालाँकि, चमगादड़ों द्वारा लाए गए ज़ूनोटिक वायरस की बड़ी संख्या मुख्य रूप से उनकी उच्च प्रजाति विविधता के कारण हो सकती है। 6,649 ज्ञात स्तनधारी प्रजातियों में से 22 प्रतिशत चमगादड़ हैं, जिनमें से प्रत्येक में अपने स्वयं के रोगजनक होते हैं।

इसलिए वायरस की निगरानी केवल चमगादड़ों पर ही केंद्रित नहीं होनी चाहिए, बल्कि इसमें स्तनधारियों के अन्य समूह जैसे कि कृंतक, मांसाहारी और खुर वाले स्तनधारी भी शामिल होने चाहिए।

हमें आदर्श रूप से ज़ूनोटिक क्षमता वाले रोगजनकों की पहचान करनी चाहिए, इससे पहले कि उन्हें मनुष्यों में प्रवेश करने और प्रकोप का कारण बनने का मौका मिले। उस समय, शायद बहुत देर हो चुकी होगी।

लेकिन हर जगह सभी जंगली जानवरों की आबादी का सर्वेक्षण करना यथार्थवादी नहीं है। वन्यजीवों में प्रचलन में वायरस की विशाल विविधता को देखते हुए, अगली महत्वपूर्ण चुनौती यह है कि निगरानी प्रयासों को कैसे प्राथमिकता दी जाए।

यहां तक कि सर्वोत्तम कल्पनाशील निगरानी योजना के साथ भी, भविष्य की सभी महामारियों को रोकना संभव नहीं हो सकता है। लेकिन ज़ूनोटिक क्षमता वाले रोगजनकों के बेहतर लक्षण वर्णन से अभी भी सबसे खतरनाक ज़ूनोटिक रोगजनकों के खिलाफ टीकों और दवा यौगिकों का प्रीमेप्टिव डिजाइन और परीक्षण करना संभव हो सकेगा।

इससे हमारी महामारी से निपटने संबंधी तैयारियों में काफी वृद्धि होगी, जब कभी वह बुरे रूप में हमारे सामने आएंगी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)