देश की खबरें | जेबीएफ सकंट से प्रभावित 34 लोगों को रोजगार देने के लिए गेल से संवाद जारी: कर्नाटक मंत्री

बेंगलुरु, 13 फरवरी कर्नाटक सरकार ‘जेबीएफ इंडस्ट्रीज लिमिटेड’ में वित्तीय संकट के कारण बेरोजगार हुए 34 कर्मचारियों को ‘गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (गेल)’ में रोजगार देने के लिए केंद्र के साथ बातचीत कर रही है। राज्य के भारी एवं मध्यम उद्योग मंत्री एम.बी. पाटिल ने मंगलवार को विधान परिषद में यह जानकारी दी।

वह कांग्रेस सदस्य मंजूनाथ भंडारी के सवाल का जवाब दे रहे थे। मंत्री ने कहा कि गेल के शीर्ष अधिकारियों से दोबारा बातचीत की जायेगी।

मंत्री का संदर्भ उन 34 लोगों से था जिन्होंने मंगलुरु विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) में ‘जेबीएफ इंडस्ट्रीज लिमिटेड’ को अपनी जमीन दी थी और इसके बावजूद उन्हें नौकरी नहीं दी गई।

सरकारी नियमों के मुताबिक कंपनी को ऐसे 115 लोगों को नौकरी देनी चाहिए थी जिन्होंने परियोजना के लिए अपनी जमीन छोड़ दी थी।

कंपनी ने 2012 में उनमें से केवल 81 को रोजगार दिया।

हालांकि, वर्ष 2017 में कंपनी वित्तीय संकट में घिर गई और राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में वाद प्रक्रिया के अनुसार इसे गेल को सौंप दिया गया।

मंत्री ने बताया कि गेल ने उन्हें मार्च 2023 तक वेतन का भुगतान किया, लेकिन समस्या तब पैदा हुई जब गेल ने लिखित और मौखिक परीक्षाओं में उनके प्रदर्शन के आधार पर उन्हें फिर से काम पर रखने का फैसला किया।

उन्होंने कहा कि नौकरी खोने के संभावित खतरे को देखते हुए दक्षिण कन्नड़ जिला आयुक्त और मंगलुरु विशेष आर्थिक क्षेत्र विकास के आयुक्त ने इस मुद्दे को हल करने के लिए कई बैठकें की हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)