विदेश की खबरें | दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में चीन के बढ़ते राजनीतिक प्रभाव ने अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया को जन्म दिया
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

ब्रैडफोर्ड (यूके), 12 फरवरी (द कन्वरसेशन) ताइवान ने 13 जनवरी को लाई चिंग-ते, जिन्हें विलियम लाई के नाम से भी जाना जाता है, को अपना अगला राष्ट्रपति चुना। उनका चुनाव एक ऐसी सरकार की निरंतरता का प्रतीक है जो एक स्वतंत्र ताइवान की हिमायती है।

ठीक दो दिन बाद, प्रशांत राष्ट्र नौरू ने ताइवान के साथ संबंध तोड़ दिए और अपनी राजनयिक निष्ठा बीजिंग के नाम कर दी। अभी हाल ही में, 27 जनवरी को, तुवालु के ताइवान समर्थक प्रधान मंत्री, कौसिया नतानो, देश के आम चुनाव में हार गए।

नतानो के वित्त मंत्री, सेवे पेनिउ, जिनकी नजर प्रधान मंत्री पद थी, उनकी गद्दी पर वापस लौट आए। अपने चुनाव अभियान में, पेनिउ ने चीन और ताइवान के साथ तुवालु के संबंधों की समीक्षा करने का वादा किया। ये उदाहरण दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में चीन के बढ़ते प्रभाव का संकेत देते हैं, एक ऐसा क्षेत्र जिस पर प्रभाव के लिए दुनिया की प्रमुख शक्तियां प्रतिस्पर्धा कर रही हैं। लेकिन यह क्षेत्र महत्वपूर्ण क्यों है? और ये प्रमुख शक्तियां वहां कैसे अपना प्रभाव जमा रही हैं?

ताइवान की मान्यता को रोकना

ताइवान 1949 से स्वतंत्र रूप से शासित है। लेकिन बीजिंग का मानना ​​है कि इसे चीन के बाकी हिस्सों के साथ फिर से जोड़ा जाना चाहिए। राज्यों के लिए चीन और ताइवान दोनों को कूटनीतिक रूप से मान्यता देना कोई विकल्प नहीं है - चीन उन्हें चुनने के लिए मजबूर करता है। दशकों से, चीन सरकार ने ताइवान से चीन को राजनयिक मान्यता स्थानांतरित करने के लिए ऐसे राज्यों पर दबाव बनाने के लिए किसी न किसी प्रलोभन या सजा के संयोजन का उपयोग किया है।

उदाहरण के लिए, चीन ने उन देशों पर महत्वपूर्ण राजनीतिक, राजनयिक और आर्थिक प्रतिबंध लगाए हैं जो ताइवान को औपचारिक रूप से मान्यता देना जारी रखते हैं। 2022 में, चीन ने लिथुआनिया से होने वाले आयात पर इसलिए अंकुश लगा दिया क्योंकि उसने ताइवान को अपने देश में एक वास्तविक दूतावास खोलने की अनुमति दी थी।

लेकिन चीन ताइवान की राजनयिक मान्यता वापस लेने पर देशों - और उनके शासक अभिजात वर्ग - को आर्थिक और राजनीतिक प्रोत्साहन भी प्रदान करता है। अतीत में, इसने संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में अपने प्रभाव का उपयोग सहायता को अवरुद्ध करने या विशिष्ट लोगों को अंतर्राष्ट्रीय पदों पर चुनने के लिए किया है।

नौरू की राजनयिक स्थिति में बदलाव और तुवुलु में चल रही राजनीतिक बहस को एक संप्रभु राष्ट्र के रूप में ताइवान की मान्यता को रोकने और कम करने के चीन के दीर्घकालिक प्रयास के हिस्से के रूप में समझा जाना चाहिए।

लेकिन वे चीन के लिए एक महत्वपूर्ण कदम हैं। नौरू को प्रशांत द्वीप समूह फोरम - जो क्षेत्र के लिए मुख्य राजनीतिक निर्णय लेने वाली संस्था है - में अग्रणी स्थान प्राप्त है इसलिए देश के रुख में बदलाव से दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में व्यापक औपचारिक राजनयिक परिवर्तन हो सकते हैं।

बेशक, चीन के दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में भी वैध आर्थिक और राजनीतिक हित हैं। यह प्रशांत द्वीप राज्यों से प्राकृतिक संसाधनों के लिए एक महत्वपूर्ण निर्यात बाजार है और आने वाले पर्यटन का एक प्रमुख स्रोत है। चीनी आंकड़ों के अनुसार, 1992 और 2021 के बीच चीन और प्रशांत द्वीप राज्यों के बीच कुल व्यापार मात्रा 15 करोड़ 30 लाख अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 5.3 अरब अमेरिकी डॉलर हो गई।

प्रभाव के लिए प्रतिस्पर्धा

नौरू का निर्णय ताइवान के लिए एक और राजनयिक झटका है, जिसे अब औपचारिक रूप से केवल 11 देशों द्वारा मान्यता प्राप्त है। हालाँकि, यह अपने आप में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और उनके सहयोगियों के लिए कोई गंभीर चिंता का विषय नहीं है। वे सभी औपचारिक रूप से चीन को मान्यता देते हैं, जबकि साथ ही ताइवान के साथ घनिष्ठ, अनौपचारिक संबंध बनाए रखते हैं। उनका ध्यान प्रशांत द्वीप राज्यों और एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अन्य जगहों पर चीनी राजनीतिक और आर्थिक प्रभाव की गहराई को सीमित करने की कोशिश पर है।

अमेरिका को चिंता है कि बढ़ते चीनी राजनीतिक प्रभाव के परिणामस्वरूप अंततः उसे क्षेत्र में महत्वपूर्ण सैन्य उपस्थिति का आनंद मिल सकता है।

प्रशांत क्षेत्र कई महत्वपूर्ण अमेरिकी सैन्य अड्डों का भी घर है। इसलिए, अमेरिका ने जलवायु परिवर्तन अनुकूलन, टिकाऊ मछली पकड़ने और आर्थिक विकास से जुड़ी पहलों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करके क्षेत्र में अपने राजनयिक संबंधों को बढ़ाने का प्रयास किया है।

हालाँकि, पिछले दशक में चीन और पश्चिम के बीच बढ़े तनाव ने चीनी प्रभाव में शासन करना अधिक चुनौतीपूर्ण बना दिया है।

चीन दक्षिण चीन सागर में ताइवान और उसके आसपास अपनी प्रधानता का दावा कर रहा है और सैन्य दबाव बढ़ा रहा है।

क्षेत्र में प्रभाव के लिए चीन के संघर्ष में अब दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में पहले से निर्विवाद पश्चिमी सुरक्षा प्रभुत्व को चुनौती देने के अवसर लेना भी शामिल है।

चीन ने 2022 में इस क्षेत्र के साथ कूटनीतिक, आर्थिक और सुरक्षा समझौते का प्रस्ताव रखा है. हालाँकि, बाद में अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के आग्रह पर कुछ प्रशांत द्वीप देशों के प्रतिरोध के कारण समझौते को छोड़ दिया गया था।

दक्षिण प्रशांत क्षेत्र में अमेरिकी रणनीति

राष्ट्रपति रहते हुए, डोनाल्ड ट्रम्प ने नौरू, मार्शल द्वीप, सोलोमन द्वीप, पलाऊ और माइक्रोनेशिया सहित प्रशांत द्वीपों के साथ कई सौदे शुरू किए।

हालाँकि, ट्रम्प की "स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक" की रणनीति को सीमित सफलता मिली। यह न केवल चीन के प्रति उनके टकरावपूर्ण रवैये के कारण था, बल्कि उनकी धमकी भरी और संरक्षणवादी "अमेरिका पहले" बयानबाजी के कारण भी था।

जो बाइडेन की तुलनात्मक रूप से नपी-तुली कूटनीति को अधिक सफलता मिली है।

2022 में, बाइडेन प्रशासन ने अपनी "प्रशांत साझेदारी रणनीति" की घोषणा की। इस पहल में पूरे प्रशांत द्वीप क्षेत्र में विकास सहायता के लिए 81 करोड़ अमेरिकी डॉलर की प्रतिबद्धता शामिल थी।

और मई 2023 में, अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि वह इस क्षेत्र को समर्थन देने के लिए 7.2 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक प्रदान करने के लिए कांग्रेस के साथ काम करेंगे। तब से, अमेरिका ने कुक आइलैंड्स और नीयू को स्वतंत्र, संप्रभु राष्ट्रों के रूप में मान्यता दी है, इस क्षेत्र में अपने राजनयिक दायरे को बढ़ाया है और "लोकतांत्रिक, लचीला और समृद्ध प्रशांत द्वीप क्षेत्र" को बढ़ावा देने के लिए प्रशांत द्वीप समूह फोरम के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्धता जताई है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)