विदेश की खबरें | स्वीडन में प्रसव: दूसरे देशों में जन्मी माताओं के लिए परिणाम बदतर
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

लुंड (स्वीडन), 13 फरवरी (द कन्वरसेशन) स्वीडन में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम दर्ज की गई है। दुर्भाग्य से, विदेशी मूल की माताओं के लिए यह बात नहीं कही जा सकती जिन्हें तमाम तरह के नकारात्मक गर्भावस्था परिणामों के उच्च जोखिम का सामना करना पड़ता है।

कोविड महामारी इन महिलाओं को देखभाल प्रदान करते समय भारी स्वास्थ्य असमानताएं बरते जाने की याद दिलाती थी। विदेश में जन्मी माताओं ने स्वीडन में जन्मी माताओं की तुलना में संक्रमण, गहन देखभाल कक्ष भर्ती, समय से पहले जन्म, कम वजन वाले बच्चे और मृत जन्म की उच्च दर की सूचना दी।

अफरा (असली नाम नहीं) ऐसा ही एक मामला है। तीसरी तिमाही में उसे कोविड होने के तुरंत बाद उसके बच्चे की गर्भ में ही मृत्यु हो गई। उसे इस बात का दुख है कि जब उसे परामर्श के लिए अस्पताल में भेजा गया तो स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पूरी तरह से चरमरा चुकी थी।

अफरा ने बताया, ‘‘किसी ने मुझे नहीं बताया कि कोविड ​​​​बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है, मैंने अपने स्वास्थ्य केंद्र से इस बारे में पूछा, और उन्होंने कुछ नहीं कहा। मुझे वैक्सीन लेने तक की सलाह भी नहीं दी गई!”

अफरा की कहानी उन कई कहानियों में से एक है जो स्वीडिश स्वास्थ्य सेवा प्रणाली में विदेशी मूल की माताओं के सामने आने वाली कठिनाइयों पर प्रकाश डालती है। सभी माताओं के लिए सार्वभौमिक रूप से उपलब्ध और निःशुल्क होने के बावजूद, दुनिया की अग्रणी स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों में से एक अपने विदेशी मूल के नागरिकों की सुरक्षा करने में क्यों विफल रही है? वजह साफ है। यह स्वीडिश स्वास्थ्य सेवा प्रणाली के मूल ढाँचे में निहित है, अर्थात् निष्पक्ष होने और सभी के लिए समान संसाधन प्रदान करने का सिद्धांत। सिस्टम यह नहीं मानता है कि, उनकी सामाजिक आर्थिक स्थिति और जातीयता के कारण, विदेश में जन्मी माताओं को स्वीडिश माताओं के समान परिणाम प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त संसाधनों की आवश्यकता होती है।

सभी स्वीडिश जन्मों में से लगभग एक-तिहाई विदेशी मूल की माताओं से होते हैं। यह संख्या 1970 के दशक से बढ़ी है, जब सभी जन्मों में से केवल 11 प्रतिशत गैर-देशी माताओं से थे। इस बढ़ती संख्या के साथ, इन असमानताओं के कारणों का विश्लेषण करने और उन्हें दूर करने के लिए समाधान खोजने का समय आ गया है।

उदाहरण के लिए, हमारे पास पहले से मौजूद उपकरणों का उपयोग इन असमानताओं को पहचानने और मैप करने के लिए किया जा सकता है। स्वीडिश स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में उपयोग किए जाने वाले साक्ष्य-आधारित दिशानिर्देश कई उच्च-गुणवत्ता वाले रजिस्टरों द्वारा समर्थित हैं जो जनसंख्या स्तर पर रोगी के परिणामों का दस्तावेजीकरण करते हैं।

प्रसव देखभाल को स्वीडिश मेडिकल बर्थ रजिस्टर द्वारा प्रलेखित किया गया है, जो लगभग पांच दशकों से मातृ, चिकित्सा और नवजात डेटा एकत्र कर रहा है। यह रजिस्टर स्वीडन में सभी जन्मों के 99 प्रतिशत को कवर करता है - लेकिन नस्ल या जातीयता जैसे सामाजिक-आर्थिक रूप से विशिष्ट डेटा शायद ही एकत्र किया जाता है।

एकत्र किए गए कुछ चरों में से, जन्म का देश एक है और नौकरी की स्थिति दूसरी है। इसका मतलब यह है कि मातृ स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के लिए उपलब्ध सबसे मूल्यवान उपकरण अनिवार्य रूप से यह पहचानने में असमर्थ है कि स्वास्थ्य असमानताएं जन्म के परिणामों को कैसे प्रभावित कर सकती हैं।

अवरोध

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)