देश की खबरें | केंद्र ने किसानों को उनके अधिकारों से वंचित किया, उन्हें धोखा दिया: बृंदा करात

रांची, 13 फरवरी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की वरिष्ठ नेता बृंदा करात ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर किसानों को धोखा देने और उन्हें उनके अधिकारों से वंचित करने का मंगलवार को आरोप लगाया।

करात ने किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च के मद्देनजर यह बयान दिया है। किसानों ने फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी देने समेत अन्य मांगों को लेकर दो केंद्रीय नेताओं के साथ बैठक बेनतीजा रहने के बाद दिल्ली की ओर कूच करने का फैसला किया। किसानों को प्रवेश करने से रोकने के लिए दिल्ली की सीमाओं पर बहुस्तरीय अवरोधक, कंक्रीट के अवरोधक, लोहे की कीलें और कंटेनर की दीवारें लगाकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

करात ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने न केवल किसानों और श्रमिकों को उनके अधिकारों से वंचित किया है, बल्कि उन्हें धोखा भी दिया है। वे (केंद्र) फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने वाले कानून को क्यों नकारते हैं?”

करात पार्टी की राज्य समिति की बैठक में भाग लेने के लिए रांची में हैं।

माकपा नेता ने कहा कि केंद्र सरकार ने प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिक एम एस स्वामीनाथन के लिए भारत रत्न की घोषणा करने में बहुत देर की।

उन्होंने कहा, ‘‘स्वामीनाथन किसानों के अधिकारों के लिए खड़े रहे, लेकिन उनकी (किसानों की) मदद करने का उनका फॉर्मूला केंद्र ने लागू नहीं किया।’’

करात ने यह भी दावा किया कि देश भर के किसान प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए आश्वासनों को ‘‘पाखंड और धोखा’’ बता रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘पूरे भारत में किसान 16 फरवरी को ‘ग्रामीण बंद’ करेंगे। यह श्रमिक वर्ग का बड़ा संघर्ष है।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)