देश की खबरें | पाक से ड्रोन के जरिए आतंकियों को हथियार पहुंचाने का मामला: एनआईए ने 10वें आरोपी को नामजद किया

जम्मू/नयी दिल्ली, 15 मई राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने प्रतिबंधित लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के आतंकवादियों को पाकिस्तान से ड्रोन के जरिए हथियार पहुंचाने में भूमिका निभाने के मामले में अपने आरोप पत्र में एक और आरोपी को नामजद किया है।

एजेंसी ने बुधवार को बताया कि एनआईए द्वारा 2022 में दर्ज मामले में जाकिर हुसैन उर्फ सोनू को 10वां आरोपी बनाया गया है। एजेंसी ने जम्मू की विशेष अदालत के समक्ष दूसरा पूरक आरोप पत्र दाखिल किया है।

एनआईए ने एक बयान में बताया कि नौ अन्य आरोपियों को पहले के आरोप पत्रों में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी), गैरकानूनी गतिविधियां (निवारण) अधिनियम, शस्त्र अधिनियम और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत नामजद किया गया था।

आरोप पत्र के अनुसार, हुसैन पाकिस्तान की ओर से आने वाले ड्रोन के जरिए गिराए गए हथियारों और गोला-बारूद की खेप को इकट्ठा करने और वितरित करने में लश्कर के सदस्यों की सहायता कर रहा था।

एनआईए ने बताया कि 29 मई 2022 को एक ड्रोन को गिराए जाने के बाद ढल्ली इलाके के पास से उसमें से कई ‘अंडर बेरल ग्रेनेड लॉन्चर’ (यूबीजीएल) और ‘चुंबक’ बम बरामद किए गए थे जिसके बाद कठुआ जिले के राजबाग थाने में मामला दर्ज किया गया था।

एनआईए ने 30 जुलाई 2022 को मामले की जांच अपने हाथ में ले ली थी।

आरोपपत्र में नामजद आरोपियों में फैसल मुनीर भी शामिल है जो कठुआ के सीमावर्ती गांवों में सक्रिय, आतंकवादियों के मददगार (ओजीडब्ल्यू) गिरोह का सरगना है।

एनआईए ने बताया कि मुनीर पाकिस्तान में बैठे घोषित आतंकवादी सज्जाद गुल के निर्देश पर काम कर रहा था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)