देश की खबरें | तमिलनाडु के पर्यटक का शव आठ दिन बाद हिमाचल से बरामद

शिमला, 12 फरवरी चेन्नई के एक पूर्व महापौर के बेटे का शव हिमाचल प्रदेश में सतलुज नदी से सोमवार को बरामद किया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी।

चेन्नई के पूर्व महापौर का बेटा जिस गाड़ी में यात्रा कर रहा था वह चार फरवरी को किन्नौर जिले में 200 मीटर की ऊंचाई से गिरकर सतलुज नदी में चली गई थी और उसके बाद से ही पूर्व महापौर के बेटे का कुछ पता नहीं चल पा रहा था। आठ दिन बाद उसका शव बरामद किया गया।

पुलिस ने बताया कि दुर्घटना चार फरवरी को काशांग नाला के निकट हुई। चेन्नई के पूर्व महापौर सैदाई दुरईसामी के बेटे वेत्री दुरईसामी (45) का शव सतलुज नदी से बरामद किया गया। शव जहां से बरामद हुआ है वह स्थान दुर्घटनास्थल से करीब तीन किलोमीटर दूर है।

किन्नौर के उपायुक्त अमित कुमार शर्मा ने कहा कि ‘माहूं नाग एसोसिएशन’ सुंदरनगर (मंडी) के गोताखोरों ने सोमवार अपराह्न करीब दो बजे शव बरामद किया।

पुलिस ने यहां एक बयान में कहा कि शिमला के इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज अस्पताल (आईजीएमसीएच) में पोस्टमार्टम के बाद शव परिवार के सदस्यों को सौंप दिया जाएगा।

दुर्घटना के दो दिन बाद वेत्री के पिता सैदाई दुरईसामी ने उनके बेटे का पता लगाने वाले को एक करोड़ रुपए इनाम के तौर पर देने की घोषणा की थी। उन्होंने स्थानीय लोगों से भी उनके बेटे की तलाश में मदद करने की अपील की थी।

वाहन काजा से शिमला जा रहा था तभी यह दुर्घटना हुई।

तीन पर्यटकों में से एक तमिलनाडु का गोपीनाथ दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गया था और उसे पहले आईजीएमसीएच शिमला रेफर किया गया। वाहन चालक की शिनाख्त लाहौल एवं स्पीति निवासी तांजिन के रूप की गई थी। चालक का शव पांच फरवरी को बरामद किया गया।

किन्नौर पुलिस, भारत तिब्बत सीमा पुलिस, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, राज्य आपदा मोचन बल, होम गार्ड और माहूं नाग एसोसिएशन के गोताखोरों ने चार फरवरी से संयुक्त तलाशी अभियान चलाया था। लापता की तलाश में ड्रोन की भी मदद ली गई थी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)