देश की खबरें | भाजपा शेष चरणों के चुनाव एक साथ कराए जाने के खिलाफ

कोलकाता, 16 अप्रैल भाजपा ने शुक्रवार को मुख्य निर्वाचन अधिकारी की कोविड-19 स्थिति पर हुई सर्वदलीय बैठक में कहा कि वह पश्चिम बंगाल में शेष चरणों के चुनाव एक साथ कराए जाने के खिलाफ है, क्योंकि ऐसा करने से जिन सीटों पर चुनाव अभी होना है, वहां के मतदाताओं एवं उम्मीदवारों को नुकसान होगा।

बैठक में पार्टी का प्रतिनिधित्व करने वाले भाजपा नेता स्वप्न दासगुप्ता ने कहा कि पार्टी ऐसा कोई कदम नहीं चाहती जिससे ‘‘लोकतांत्रिक उत्साह’’ प्रभावित हों।

दासगुप्ता ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने कहा कि हमारी पार्टी कोविड-19 के सभी प्रोटोकॉल का पालन करेगी और अपील की कि ऐसा कोई कदम नहीं उठाया जाए जिससे अगले चरण में मतदान करने वाले लोगों से भेदभाव हो।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने चुनाव एक साथ कराने (शेष चरणों के) पर कुछ नहीं कहा... हमारा मानना है कि चुनाव आठ चरणों में होंगे।’’

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण और इस कारण होने वाली मौतों के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार नहीं रोका जा सकता है और आश्चर्य जताया कि उम्मीदवारों और मतदाताओं के अधिकार किस तरह से छीने जा सकते हैं।

दासगुप्ता ने कहा कि शेष चरणों के लिए डिजिटल चुनावी सभाएं संभव नहीं हैं क्योंकि आठ चरणों में से आधे बीत चुके हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘समान अवसर दिया जाना चाहिए... हमने निर्वाचन आयोग को सलाह दी है कि ठोस लोकतांत्रिक संस्कृति एवं सुरक्षा मानकों के बीच संतुलन बनाने की जरूरत है।’’

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘यह निर्वाचन आयोग पर निर्भर करता है कि वह बताए कि राजनीतिक दलों को क्या करना है। हमने चुनाव आयोग को आश्वासन दिया है कि सभी परिस्थितियों में उसने जो मानक तय कर दिए हैं, भाजपा उनका पूरी तरह पालन करेगी।’’

उन्होंने कहा कि भगवा दल अपने समर्थकों और कार्यकर्ताओं को जनसभाओं में मास्क देगी ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि स्वास्थ्य प्रोटोकॉल बना रहे।

राज्य में अभी तक चार चरणों में 135 विधानसभा सीटों पर चुनाव हो चुके हैं और शेष 159 सीटों पर अगले चार चरणों में 17 अप्रैल से 29 अप्रैल के बीच चुनाव होंगे।

मतगणना दो मई को होगी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)