जरुरी जानकारी | एम्फी ने म्यूचुअल फंड वितरकों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण फिर से शुरू किया

एम्फी ने एक बयान में कहा कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के कारण देश के कई हिस्सों में जारी लॉकडाउन की स्थिति के बीच ऑनलाइन पंजीकरण सुविधा शुरू करने से एआरएन और ईयूआईएन के नए आवेदकों को बड़ी राहत मिलेगी।

एम्फी ने कहा कि उसने एआरएन और ईयूआईएन को आधार कार्ड और वन टाइम पिन यानी ओटीपी के जरिये जारी करने के लिये वेबसाइट पर पेपरलेस ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया को फिर से शुरू किया है।

एम्फी के मुख्य कार्यकारी एनएस वेंकटेश ने कहा, ’’एम्फी में हम टेक्नोलॉजी को एक सहायता के रूप में देखते हैं जो वितरकों या उनके कर्मचारियों द्वारा सांसारिक कार्यों पर खर्च किए गए समय को कम करता है, जिससे वे अपने ग्राहकों की मदद करने के लिए अपने समय का बेहतर उपयोग कर सकें। हम अपने सभी वितरण वर्ग से इस सुविधा का लाभ उठाने का आग्रह करते हैं।’’

उल्लेखनीय है कि एम्फी ने वर्ष 2017 में आधार कार्ड के माध्यम से एआरएन और ईयूआईएन नंबर का आवेदन करने के लिए पूरी तरह से एक ऑनलाइन सुविधा शुरू की थी। हालांकि, आधार कार्ड के इस्तेमाल को लेकर वर्ष 2018 में उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद इस सुविधा को वापस ले लिया गया था।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण की तरफ से हालांकि बाद में आधार कार्ड आधारित प्रमाणीकरण सेवा के साथ-साथ ई-केवायसी और ओटीपी का उपयोग कर अनुमति देने के बाद एम्फी ने दोबारा पंजीकरण की इस सुविधा को शुरू कर दिया है।

एम्फी को अगस्त 1995 में एक गैर-लाभकारी संगठन के रूप में शामिल किया गया था। वर्तमान में बाजार नियामक सेबी के साथ पंजीकृत 44 परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनियां इसके सदस्य हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)