विदेश की खबरें | अमेरिकी अंतरक्षियात्रियों ने स्पेसएक्स के कैप्सूल में समुद्र में उतरने के लिए तैयारी की

सी सिकनेस दरअसल पानी में यात्रा के दौरान मितली, उल्टी और चक्कर आने जैसी समस्याओं को कहते हैं और ऐसे हालात में सीसिक बैग का इस्तेमाल किया जा सकता है।

स्पेसएक्स और नासा की रविवार दोपहर डाउग हर्ले और बॉब बेनकेन को कंपनी के ड्रैगन कैप्सूल में मैक्सिको की खाड़ी में उतारने की योजना है। फ्लाइट कन्ट्रोलर्स चक्रवात इसाइएस पर करीब से नजर रख रहे हैं , जिसके फ्लोरिडा के पूर्वी तट पर आने की आशंका है और जहां उन्हें उतारने की योजना है वह स्थान फ्लोरिडा के करीब है।

यह भी पढ़े | उत्तर प्रदेश: गांव के टॉयलेट में मगरमच्छ दिखने से मचा हड़कंप, रेस्क्यू टीम की मदद से वापस नदी में छोड़ा गया.

हर्ले ने कहा कि अगर वह और बेनकेन लहरों में बहते हुए बीमार पड़ गए तो यह चालक दल के लिए कोई नयी बात नहीं होगी। इससे पहले 1970 में स्काईलैब से आने वाले अंतरिक्षयात्री भी समुद्र में उतरने के बाद बीमार पड़ गए थे।

हर्ले ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से चालक दल के अंतिम संवाददाता सम्मेलन में कहा,‘‘पानी में लैंड करने पर बीमार महसूस करना साधारण बात है।’’

यह भी पढ़े | चुनाव में देरी नहीं चाहता लेकिन डाक मतपत्र से नतीजों में विलंब हो सकता है: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप.

यह स्पेसएक्स का अतंरिक्षयात्रियों को सीधे समुद्र में लैंड कराने का पहला मौका है। लैंड़िंग के साथ ही 30 मई को नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर से शुरू हुई दो माह की टेस्ट फ्लाइट का समापन हो जाएगा। करीब एक दशक के बाद अमेरिका से किसी चालक दल की यह पहली उड़ान थी।

अंतरिक्षयात्रियों को ले जाने वाला कैप्सूल 31 मई से अंतरिक्ष स्टेशन पर है।

हर्ले ने कहा,‘‘ ड्रैगन के आपातकाल तथा अन्य उपकरणों की ठीक तरह से जांच कर ली गई है। लांच और गंतव्य तक पहुंचने में कोई बाधा नहीं हुई तो हम उम्मीद कर रहे हैं कि सागर में उतरने में भी कोई दिक्कत नहीं होगी।’’

ड्रैगन कैप्सूल करीब एक घंटे तक पानी में रहेगा और इसके बाद इसे एक क्रेन के जरिए निकाल कर स्पेसएक्स रिकवरी शिप पर रखा जाएगा। इस दौरान फ्लाइट सर्जन और रिकवरी दल के सदस्य मौजूद रहेंगे।

बेनकेन ने संवाददाताओं से कहा,‘‘ जब तक हमारे पास लैंडिंग के बेहतर विकल्प नहीं होंगे हम अंतरिक्ष स्टेशन से रवाना नहीं होंगे। स्प्लैशडाउन के लिए मौसम अच्छा है।’’

एपी

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)